पीएम के लिए राज्यपाल ने किया आचार संहिता का उल्लंघन, अब भुगतेंगे…

0

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Eelection 2019) के अंतर्गत देश आचार संहिता लगी हुई है| चुनाव आयोग (Election Commission) इस समय नेताओं के बयान और उनके कार्यों पर नजर गढ़ाए बैठा है फिर भी कई नेता ऐसे हैं, जो अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आ रहे हैं| अब चुनाव आयोग ने राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह (Kalyan Singh Governor Of Rajasthan) के एक बयान के लिए राष्ट्रपति (Election Commission Complaints Against Kalyan Singh To President Ram Nath Kovind ) से शिकायत की है| दरअसल, कल्याणसिंह ने अपने बयान में पीएम मोदी (PM Narendra Modi) की तारीफ़ की थी और आचार संहिता (Code Of Conduct) के दौरान कोई भी सरकारी कर्मचारी किसी भी पार्टी के नेता की सार्वजनिक रूप से तारीफ़ नहीं कर सकते| सिंह के एक बयान को लेकर चुनाव आयोग ने अब बहस सख्त रवैया अपना लिया है| इसके लिए आयोग ने राष्ट्रपति को पत्र भी भेजा|

Lok Sabha Election 2019 : आज क्या-क्या हो सकता है कांग्रेस के घोषणापत्र में ?

चुनाव आयोग की बैठक में अहम फैसला (Election Commission Complaints Against Kalyan Singh To President)

बीजेपी और पीएम मोदी की जीत को लेकर दिए गए बयान के बाद कल्याणसिंह की मुसीबतें बढ़ गई है| हो सकता है कि उन्हें अपने पद से भी हाथ धोना पड़े| बयान पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सोमवार रात पत्र लिखा गया| इसके पहले आयोग के सदस्यों ने बैठक भी की| राज्यपाल ने कहा था कि हम सभी बीजेपी के कार्यकर्ता हैं, हम चाहते हैं कि बीजेपी बड़ी जीत हासिल करे| देश के लिए जरूरी है कि नरेंद्र मोदी दोबारा प्रधानमंत्री बनें| दरअसल, उन्होंने ऐसा इसीलिए कहा क्योंकि कल्याण सिंह के बेटे राजवीर सिंह उर्फ राजू भैया एटा से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं|उनके बयान के बाद सियासत गरमा गई थी| इसके बाद राजस्थान (Rajasthan News In Hindi) के सीएम ने ट्वीट किया था, “राज्यपाल का पद एक संवैधानिक पद होता है, एक लोकतंत्र में राज्यपाल को निष्पक्षता और सभी पार्टियों के दूरी बरकरार रखने की उम्मीद की जाती है|”

Lok Sabha Election 2019 : उमर अब्दुल्ला के बयान पर भड़के पीएम मोदी

कल्याण सिंह के खिलाफ चुनाव आयोग ने लिखी चिट्ठी (फाइल)

इसके पहले भी राज्यपाल कल्याण सिंह एक नेता के बारे में बयान दे चुके हैं| उन्होंने कुछ दिन पहले कहा था कि पार्टी ने एक ऐसे व्यक्ति को टिकट दिया है, जो कभी अतरौली (लोकसभा क्षेत्र में ही एक जगह) गया ही नहीं है| उनके इस बयना के बाद कई तरह की अटकलें लगाई जाने लगी थीं| सतीश गौतम ही अभी अलीगढ़ से सांसद हैं| गौरतलब है कि इसके पहले 90 के दशक में हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल गुलशेर अहमद को मध्य प्रदेश में उनके बेटे सईद अहमद के लिए चुनाव प्रचार करते पाया गया था| इसके बाद उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था|

फेसबुक ने बैन किए राजनीतिक दलों के सैकड़ों खाते और पेज

कल्याण सिंह के खिलाफ चुनाव आयोग ने लिखी चिट्ठी (फाइल-PTI)

 

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.