website counter widget

Video : जानिये कैसे मुस्लिमों ने रचा 2019 चुनावों का इतिहास

0

लोकसभा चुनाव के नतीजे तो आ चुके हैं, लेकिन इन बार कुछ ऐसा भी हुआ है, जो 2014 लोकसभा चुनाव के मुकाबले काफी अलग रहा । दरअसल, बात यह है कि पिछले लोकसभा चुनाव के मुकाबले इस साल ज़्यादा मुस्लिम नुमाइंदों को जनता ने संसद ( 27 Muslim MP Elected To Parliament) पहुंचाया है। इसकी सबसे बड़ी वजह उत्तरप्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र है।

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनावों में जहाँ उत्तर प्रदेश से एक भी मुस्लिम सांसद नहीं चुना गया वहीँ इस दफ़ा जनादेश में उत्तरप्रदेश से 6 मुस्लिम सांसदों को चुना गया। इसमें 3 बहुजन समाजवादी पार्टी से चुने गए सांसद हैं और 3 समाजवादी पार्टी से। वहीँ पूरे देश में इस बार 27 मुस्लिम सांसद ( 27 Muslim MP Elected To Parliament) चुने गए हैं।

राहुल की हार पर सिद्धू का इस्तीफा

तो अब जानते हैं उन सभी सांसदों ( 27 Muslim MP Elected To Parliament) के बारे में जिन्होंने देश में कमल खिलाते हुए भी जनता का प्रतिनिधित्व  करने के लिए जीत हासिल की:

1) सबसे पहले हैं असम के बारपेटा लोकसभा से जीत हासिल करने वाले कांग्रेस प्रत्याशी अब्दुल खालिक , इन्होने 6,45 173 वोटों से जीत हासिल की.. और इन्होने असम गण परिषद् के कुमार दीपक दास को 1,40,307 वोटों से करारी शिकस्त दी

2) वहीँ असम के धुवरी लोकसभा सीट से AIUDF के बदरुद्दीन अजमल ने ताहिर बेपारी को 2,26, 258 ज़ोरदार शिकस्त दी। अजमल को कुल 7 ,18 764 मत मिले जो की एक अच्छा जनादेश रहा।

3). बिहार की खगड़िया लोकसभा सीट से लोक जनशक्ति पार्टी के उम्मीदवार चौधरी मेहबूब अली कैसर ने विकास शील पार्टी के उम्मीदवार मुकेश साहनी को 2, 48 570 वोटों से दमदार मात दी।

4) बिहार के ही किशनंगज सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार मोहद जावेद जदयू के सय्यद मेहबूब अशरफ को 34 446 वोटों से टक्कर की मात दी।

जीत गई गांधी के हत्यारे की विचारधारा!

5) इसके अलावा जम्मू कश्मीर के अनंतनाग से हसनैन मसूदी जीते। और बेदर्द आतंवादी हमले के लिए जाना जाने वाला जम्मू कश्मीर के बारामुला सीट से National Conference के मोहम्मद अकबर लोने जीते। कश्मीर के ही श्रीनगर सीट से NC के फ़ारूक़ अब्दुल्लाह जीते।

6) केरल की अलपुझा सीट से CPI -M के अधिवक्ता मोहम्मद आरिफ जीते।

7) केरल के ही मल्लपुरम IUML से P. K कुन्हालीकुट्टी जीते।

8) इतना ही नहीं केरल की पोन्नानी सीट से IUML के मोहम्मद बशीर चुनाव जीते।

9) NCP से लक्षद्वीप टिकट पाने वाले मोहम्मद फ़ैसल PP को भी जनता ने जीतकर संसद पहुंचाया है।

10) महाराष्ट्र के औरंगाबाद लोकसभा सीट AIMIM के उम्मीदवार सय्यद इम्तियाज़ ज़लील ने शिवसेना के उम्मीदवार चंद्रकांत खरे को 4 4 92 वोटों से मात देकर ताकर के मुकाबले का प्रदर्शन किया।

मेनका ने राहुल से कहा, गाड़ी में बैठ हाथ हिलाने से ………

11.) वहीँ पंजाब के फरीदकोट लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीद्वार मोहद सादिक ने अकाली दल के उम्मीदवार गुलज़ार सिंह को 83 256 वोटों से करारी शिकस्त दी है।

12) तमिलनाडु के रामनाथपुरम लोकसभा सीट से IUML के उम्मीदवार के नवास की ने भी शानदार जीत हासिल की है।

13) हैदराबाद सीट से AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवेसी ने भाजपा के भगवंत राव को 2 ,82 , 186 वोटों से करारी शिकस्त दी है।

14) उत्तरप्रदेश के अमरोहा लोकसभा सीट से बहुजन समाज पार्टी के उम्मीदवार कुंवर दानिश अली ने बेहतरीन जीत हासिल की है। दानिश ने भाजपा के कँवर सिंह तंवर को 63 हज़ार वोटों से ज़बरदस्त शिकस्त दी है।

15) UP के ही गाज़ीपुर लोकसभा सीट से BSP के उम्मीदवार अफ़ज़ाल अंसारी ने भाजपा सरकार के दिग्गज नेता और योगी सरकार में मंत्री मनोज सिन्हा को 119592 वोटों से करारी मत दी।

16) वहीँ UP के ही मुरादाबाद सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डॉ एसटी हसन ने बेहतरीन जीत हासिल की। इन्होने भी भाजपा के कुंवर सर्वेश कुमार को 97 878 वोटों से शिकस्त दी है।

17) UP के रामपुर से कद्दावर नेता आज़म खान ने भाजपा प्रत्याशी जयाप्रदा को 1 लाख से अधिक वोटों से शिकस्त दी। ये वही आज़म खान हैं जो चुनाव से पहले जयाप्रदा के लिए विवादित बयान देने के कारण सुर्खियों रहे।

18) सहारपुर से हाजी फज़लुर्रहमान ने भाजपा के राघव लखनपाल को टककर की 22, 417 वोटों से शिकस्त दी।

19) संभल से डॉ शफीकुर्रहमान ने शानदार जीत हासिल की। रहमान ने सपा के टिकट पर चुनाव में उतरे थे.

20) पश्चिम बंगाल के बशीरहाट सीट से नुसरत जहाँ रूही जीत गयीं है और बंगाल के ही जंगपुरी वेस्ट से TMC उम्मीदवार खलीलपुर रेहमान,  मालदा सीट से अबू हसीम खान चौधरी, उलुबुरिया से सज़दा अहमद और मुर्शिदाबाद सीट से TMC के अबू ताहिर खान जीत कर संसद पहुंचे हैं।

कुल मिलकर इस बार मुस्लिम सांसदों का देश में डंका बजेगा। हालाकिं ये आकड़ें भी कम है क्योंकि एक समय ऐसा भी था जब 30 मुस्लिम संसद चुने गए थे।  बहरहाल, यह आंकड़ा 2014 सांसदों से तो काफी बेहतर ही है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.