website counter widget

झूठा मोदी, गुंडा शाह : ममता बनर्जी

0

पश्चिम बंगाल (West Bengal) के चुनावी रण में लगी आग बुझने का नाम ही नहीं ले रही है। भाजपा और टीएमसी के बीच शुरू हुई राजनीतिक जंग जारी है। पहले जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने सीएम ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) पर निशाना साधा था वहीँ अब सीएम बनर्जी ने कहा है कि वे पीएम को जेल में डाल देंगी। बंगाल के मथुरापुर में रैली को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने अमित शाह और पीएम मोदी के लिए कई आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया है। उन्होंने कहा कि कल हमने देखा कि बीजेपी हमारी रैलियों को रोकने की कोशिश कर रही है। हमारा गठबंधन टूटने वाला नहीं है। हम बीजेपी को राज्य और केंद्र से बाहर करेंगे।

ममता में दम है तो मुझे रोककर दिखाए : मोदी

  भाजपा का भाई चुनाव आयोग

सीएम बनर्जी ने आगे कहा कि बीजेपी मूर्तियां तोड़ रही है। बीजेपी मूर्तियां तोड़ने के लिए जानी जाती है। उन्होंने पहले भी ऐसा किया है।  वे याद रख लें जो उन्होंने किया उसका हम बदला लेंगे। मोदी झूठे और बेशर्म है और अमित शाह  गुंडा है। इतना ही नहीं सीएम बनर्जी ने चुनाव आयोग को भाजपा का दूसरा भाई भी बताया। उन्होंने चुनाव आयोग के फैसले को असंवैधानिक, असंवैधानिक, गैर-कानूनी, पक्षपातपूर्ण और अनैतिक बताते हुए आरोप लगाया कि चुनाव आयोग के पास हमने कई शिकायतें कीं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की। चुनाव आयोग भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह से डरा हुआ है और उन्हीं के इशारे पर उसने यह फैसला लिया है। मैंने ऐसा चुनाव आयोग पहले न कभी देखा और न ही सुना है। बंगाल में कानून-व्यवस्था की कोई समस्या नहीं है। यह फैसला चुनाव आयोग का नहीं बल्कि मोदी का है। चुनाव आयोग को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा संचालित किया जा रहा है।

बंगाल में रैली विवाद पर मायावती का आरोप

पीएम को जेल में डाल दूंगी

बंगाल में हो रही हिंसा के बारे में सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि मुझे भाजपा इस बात के सबूत दें कि टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने मूर्ति तोड़ी और हिंसा फैलाई। यदि पीएम सबूत नहीं दे पाते हैं तो मैं उन्हें जेल में डाल दूंगी। उन्होंने अपने भाषण में बंगाल मामले पर समर्थन करने के लिए बाकी दलों के नेताओं को धन्यवाद दिया और कहा, “मायावती, अखिलेश यादव, कांग्रेस, चंद्रबाबू नायडू और बाकी सभी लोगों को हमारा और बंगाल के लोगों का समर्थन करने के लिए धन्यवाद। बीजेपी के दबाव में चुनाव आयोग ने जो पक्षपाती फैसला किया है वह लोकतंत्र पर सीधा हमला है। जनता इसका मुंहतोड़ जवाब देगी।”

आचार संहिता नहीं, मोदी प्रचार संहिता

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.