केरल के बीजेपी प्रत्याशी जेल में

0

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के नजदीक आते ही सभी राजनैतिक दलों की तैयारियां पूरे शबाब पर आ गई हैं। वहीं दोनों बड़े दल कांग्रेस (Congress) और भाजपा (BJP) को उनके ही कुछ नेता झटके पर झटका दे रहे हैं। दोनों ही दलों में लोगों का आना-जाना लगा हुआ है। कहीं कांग्रेस (Congress) के कुछ नेता भाजपा (BJP) में शामिल हो रहे हैं तो कहीं भाजपा (BJP) के कुछ कार्यकर्त्ता कांग्रेस (Congress) का दमन थाम रहे हैं। ऐसे में केरल से एक ऐसी खबर आई है जिसने पूरी भारतीय जनता पार्टी (BJP) को हिला कर रख दिया।

जी हां केरल में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के एक लोकसभा उम्मीदवार (Lok Sabha candidate) को सजा सुनाई गई है। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लोकसभा उम्मीदवार (LokSabha candidate) को अब कम से कम 14 दिन जेल की सलाखों के पीछे बिताने पड़ेंगे। लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election 2019) के दौरान राज्य में 23 अप्रैल को मतदान होना है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के लोकसभा प्रत्याशी (Lok Sabha candidate) को जेल होना पार्टी के लिए तगड़ा झटका है। भाजपा लोकसभा उम्मीदवार (BJP Lok Sabha candidate) को सजा होने से पूरी पार्टी में खलबली मच गई है।

Related image

केरल के कोझीकोड से भाजपा (BJP) प्रत्याशी प्रकाश बाबू को पठानमथिट्टा की एक स्थानीय अदालत ने सबरीमाला परिसर में विरोध प्रदर्शन करने और साथ ही हिंसा में शामिल होने के कारण 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। अदालत के इस फैसले से भारतीय जनता पार्टी (BJP) में कोहराम मच गया है। यह फैसला ऐसे समय पर सुनाया गया है जब राज्य में आगामी 23 अप्रैल को मतदान होने हैं। मीडिया सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार भाजपा प्रत्याशी (BJP Candidate) प्रकाश बाबू पर 8 केस दर्ज किए गए हैं। प्रकाश बाबू पर दर्ज 8 मामलों में एक महिला का हत्या का प्रयास का मामला भी दर्ज है।

Image result for modi amit shah sad

गौरतलब है कि गत 28 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने अपने आदेश में 10 साल से लेकर 50 साल तक की महिलाओं को श्राइन हिल्स में प्रवेश की अनुमति प्रदान की थी। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद केरल राज्य के सबरीमाला में जमकर विरोध प्रदर्शन किया गया था। इसी विरोध प्रदर्शन के कारण राज्य में हिंसा भड़क गई थी। इस विरोध प्रदर्शन के दौरान ही सीपीआई के नेतृत्व वाली सरकार पर भाजपा (BJP) ने शीर्ष अदालत के आदेश को लागू करने के लिए ”अनावश्यक जल्दबाजी” करने का आरोप लगाया था। इतना ही नहीं भाजपा (BJP) ने अपना समर्थन भी प्रदर्शनकारियों को दिया था। इसके बाद एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं की सुनववाई के लिए नै बैंच का गठन किया। इस बैंच में शीर्ष अदालत के आदेश की समीक्षा के लिए दायर की गई याचिकाओं की सुनवाई की गई। हालांकि बैंच ने अभी अपना फैसला अपने पास ही सुरक्षित रखा है।

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.