website counter widget

फूल के बेटे की बुद्धिमानी

0

एक दुष्ट जादूगरनी थी। उसके घर के सामने एक बड़ा-सा बाग था। बाग में बहुत सारे फूल लगे हुए थे। एक महिला उस घर के आगे से होकर जा रही थी। उसने सुंदर गुलाब देखे। उसने सोचा कि मंदिर में चढ़ाने के लिए एक फूल तोड़ लिया जाय। लेकिन जैसे ही उसने फूल तोड़ने के लिए हाथ बढ़ाया, जादूगरनी आ गई।

वह चिल्लाकर बोली, ‘रूक जा मूर्ख महिला। तूने मेरे फूल को छूआ है। यहां किसी को भी मेरे फूल छूने की आज्ञा नहीं है। तेरी इस गलती की सजा तुझे जरूर मिलेगी। मैं तुझे भी गुलाब का फूल बनाती हूं।’

यह कहकर जादूगरनी ने इशारा किया। वह महिला घबराकर रोने लगी। वह बोली, ‘मुझे माफ़ कर दो। मुझसे बहुत बड़ी भूल हो गई। मेरे ऊपर दया करो। मुझे फूल मत बनाओ।’ उसका रोना सुनकर जादूगरनी ने कहा, ‘मैंने एक बार जो कह दिया, वह तो होकर ही रहेगा। मैं इतना कर सकती हूं कि तेरी सज़ा थोड़ी कम हो जाए।

आज पूरे दिन तू इस क्यारी में रहेगी और रात होने पर ही अपने घर जा सकेगी। लेकिन सुबह होते ही तुझे यहां वापिस आना होगा। यदि ऐसा नहीं हुआ तो तू अपने घर पर ही एक फूल बन जाएगी। इसलिए सुबह होते ही यहां आ जाना। हां, अगर तुझे किसी ने यहां के फूलों में से पहचान लिया तो मेरा जादू टूट जाएगा और तू हमेशा के लिए जा सकेगी।’

Gyanranjan की मशहूर कहानी, ज़रूर पढ़ें…

जादूगरनी के इतना कहते ही वह महिला गुलाब का फूल बनकर एक पौधे से जुड़ गई। रात होते ही वह वापस अपने रूप में आ गई। दिन-भर धूप में रहने से बेचारी परेशान थी। वह देर रात अपने घर पहुंची। घर पर सब परेशान थे। उसने पूरी कहानी अपने बेटे को सुनाई। उसके बेटे ने कहा – ‘मां आप सुबह वहां वापस चली जाना।

मैं आपके कुछ देर बाद आऊंगा और आपको पहचान लूंगा। आप बिल्कुल चिंता मत करो।’ सुबह सूरज निकलने से भी पहले महिला जादूगरनी के बाग़ में जाकर फूल बन गई। तभी उसका बेटा वहां आया। उसने देखा वहां गुलाब के बहुत सारे पौधे थे। उन पौधों पर सैकड़ों फूल लगे हुए थे। उसने एक-एक फूल को ध्यान से देखना शुरू किया। काफी सारे फूल देखने के बाद उसने एक फूल चुना और बोला, ‘यही मेरी मां है।’

Hindi Kahani : मछली की चतुराई

इतना कहते ही उसकी मां पर किया गया जादू टूट गया। वह अपने रूप में वापिस आ गई। खुशी में उसने अपने बेटे को गले से लगा लिया। उसने बेटे से पूछा, ‘एक बात बता बेटा। तूने मुझे पहचाना कैसे?’ बेटे ने कहा, ‘सीधी बात है मां। जितने भी फूल रात-भर यहां रहे, उन सभी पर ओस की बूंदे थीं। लेकिन आप तो रात को घर पर थीं, इसलिए आप बिल्कुल सूखी हुई थीं। इसलिए मैंने आपको आसानी से पहचान लिया।’

अपने बेटे की बुद्धिमानी देखकर मां को बहुत खुशी हुई। जादूगरनी ने जब मां और बेटे का प्यार देखा तो उसको इतना अच्छा लगा कि उसने सबको परेशान करना छोड़ दिया। अब वह दुष्ट जादूगरनी नहीं थीं, बल्कि एक अच्छी और नेक जादूगरनी बन गई थी।

Hindi Kahani : पढ़ें निर्मल वर्मा की प्रसिद्ध कहानी

सार – मुसीबत के समय अपने विवेक का इस्तेमाल करना चाहिए। किसी भी समस्या से डरकर नहीं बल्कि सोच-समझकर और अपनी बुद्धि का प्रयोग कर, उसका सामना करना चाहिए।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.