Hindi Kahani : आलोचना का मज़ा और सज़ा

0

अमेरिका के राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन से जुड़े कई किस्से (Abraham Lincoln Hindi Kahani ) है | जब वे युवा थे तो अपने विरोधियों का मजाक बनाने के लिए पत्र छपवा कर सड़कों पर फेंक देना उनकी आदत थी| समय के साथ उन्होंने ऐसे पत्र समाचार पत्रों में छपवाना शुरु किया | या सिलसिला चलता रहा | एक बार की बात है| समाचार पत्र में एक गुमनाम चिट्ठी छपी | पत्र जेम्स शिल्ड्ज नाम के एक क्रोधी व्यक्ति के नाम लिखा गया था | यह इंसान एक आयरिश राजनीतिज्ञ था| पेपर में छपे उस व्यंग्य पत्र को जिसने भी पढ़ा, उसके चेहरे पर हंसी आ गई | यह बात शिल्ड्ज तक भी पहुंची| इसके बाद वे नाराज हुए और उन्होंने यह पता लगवाया कि यह समाचार पत्र में मेरे नाम का व्यंग्य पत्र किसने लिखा |

Hindi Kahani : एक वर्ष की चिंता

लिंकन का नाम पता चलते ही वे आग बबूला होकर उनसे मिले और उन्हें खरीखोटी सुनाने लगे | उन्होंने लिंकन को द्वंद युद्ध की चुनौती दी|लिंकन उनसे लड़ना नहीं चाहते थे| लेकिन हालत कुछ ऐसे बने की दोनों के बीच द्वंद युद्ध के लिए एक दिन और समय तय हुआ | युद्द तलवार से लड़ा जाना था तो उन्होंने अपने उस्ताद की मदद से तलवारबाजी के गुर सीखे | इसी बीच यह खबर हर कही फ़ैल गई | तरह तरह की बातें होने लगी और कहा जाने लगा कीइस युद्ध में एक की मौत पक्की है|

Hindi Kahani : पंडित को वेश्या से मिला ज्ञान

द्वंद युद्ध का समय नजदीक आ गया था| लेकिन अंतिम समय में…द्वंद युद्ध नहीं हुआ उस पर रोक लगा दी गई | कब, कैसे, क्या हुआ, लेकिन लिंकन के सर से मुसीबत तो टली| अब्राहम लिंकन ने जीवन की इस भयानक घटना से सीखा की आलोचना और बुराई में मजा तो है लेकिन इसके घातक परिणाम भी है| वैसे भी निंदा रस हर किसी को प्रिय है किन्तु यह ठीक नहीं है परनिंदा से हमेशा हम खुद का अहित ही करते है |

Hindi Kahani : पढ़ें भीष्म साहनी की मार्मिक कहानी

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.