शिक्षाप्रद कहानी – साहसी चिड़िया

0

यह एक चिड़िया की कहानी है जिसने अपने साहस और बुद्धिमानी से छोटे बड़े सब जानवरों और पक्षियों को इकठ्ठा कर एक भयंकर दुविधा का सामना किया।
एक बड़े से घने जंगल में आग लग गयी तो सभी जानवर भागने लगे। पूरे जंगल में हरबड़ी सी मच गयी। सब अपनी जान बचा जंगल छोड़ भागने लगे।
तभी एक नन्ही से चिड़िया ने यह सब देखा तो हैरान रह गयी कि आग तो कोई बुझा नहीं रहा बस सब भाग रहे हैं। वो फ़ौरन पास की नदी पर गयी और अपनी छोटी सी चोंच में पानी भर लायी और जलती आग पर फ़ेंक दिया। इसी तरह उसने ना जाने कितने चक्कर लगाए। बार-बार वो जाती अपनी चोंच को पानी से भर्ती और आग पर फ़ेंक देती।

Hindi Kahani : छिपकली ने पढ़ाया रिश्तों का पाठ

यह सब कुछ और जानवर भी देख रहे थे। वो सब चिड़िया पर हँस रहे थे और कह रहे थे ” चिड़िया रानी, तुम्हारे इस चोंच भर पानी से आग नहीं भुझेगी, तुम तो अपनी जान बचा भाग लो।”
तब चिड़िया ने जवाब दिया “अरे, भाग तो मैं भी सकती हूँ तुम डरपोक जानवरों की तरह, पर मैं तो आग बुझाने की कोशिश करती रहूँगी अपना जंगल बचाने के लिए।”

Motivational Story : पहले खुद को तो बदलो

चिड़िया की बात सुन सब का सर शर्म से झुक गया। तब सब ने मिल कर भागते हुए और जानवरों और पक्षियों को रोक कर समझाया।
और फिर सब ने मिल कर नदी के पानी से जंगल में लगी आग पर काबू पा लिया।
शिक्षा– तभी कहते हैं कि बुरे वक़्त में साहस और बुद्धिमता से काम लो तो जीत होगी। जो तकलीफों से घबरा जाता है या उनसे भागने की कोशिश करता है वो कभी सुखी नहीं हो सकता | तकलीफ से भागकर नहीं बल्कि लड़कर ही बचा जा सकता है | इसलिए चुनौतियों को स्वीकारे |

Hindi Kahani : क्रोध पर काबू पाने की सीख

साभार – शिक्षाप्रद हिंदी कहानियां बच्चों के लिए |

Share.