website counter widget

Hindi Kahani : ईश्वर को पाने का मौका

0

एक बार एक नगर के राजा के यहां पुत्र पैदा हुआ। इस खुशी में राजा ने पूरे नगर में घोषणा करवा दी कि कल पूरी जनता के लिए राजदरबार खोल दिया जाएगा। जो व्यक्ति सुबह आकर सबसे पहले जिस चीज़ को हाथ लगाएगा वो उसी की हो जाएगी पूरे राज्य में ख़ुशी का माहौल छा गया। सारे लोग ख़ुशी से फूले नहीं समा रहे थे। कोई कह रहा था कि मैं तो सोने के कलश पर हाथ लगाऊंगा, किसी को घोड़ों का शौक था तो वो बोल रहा था घोड़े को हाथ लगाऊंगा। इसी तरह सारे लोग रात भर यही सोचते रहे कि सुबह वो किस-किस चीज़ को सबसे पहले हाथ लगाएंगे।

Hindi Kahani : सच्चाई हमेशा ख़ुशी देती है…

सुबह जैसे ही दरबार खुला सारे लोगों का राजा ने राज दरबार में स्वागत किया। जैसे ही सबको अंदर आने का आमंत्रण दिया सभी लोग राजमहल में रखी कीमती चीज़ों पर झपट पड़े। सबके मन में डर था कि कोई दूसरा पहले आकर उनकी पसंदीदा चीज़ों को हाथ ना लगा दे। कुछ ही देर में दरबार का माहौल बड़ा अजीब हो गया। सारे लोग इधर-उधर दौड़ रहे थे। राजा अपने सिंहासन पर बैठा ये सब देख रहा था और राजा को बड़ा ही आनंद आ रहा था। अचानक एक छोटा सा बच्चा भीड़ से निकल कर आया और राजा की ओर आने लगा।

राजा उसे देख कर कुछ समझ नहीं पाया और इतने में वो बच्चा राजा के नजदीक आया और उसने राजा को हाथ लगा दिया और कहा कि अब आप मेरे हुए। इस तरह अब राजा उसका हो चुका था तो राजा की हर चीज़ भी उसकी हो गई। और सारी जनता इस बात का अफ़सोस करने लगी की हम सभी को आज मौका दिया गया था लेकिन हम सभी कीमती वस्तुओं के मोह में उलझे रहे जबकि हम इन सभी चीज़ों के मालिक को ही अपना बना सकते थे।

पढ़ें अरुणाचल प्रदेश की लोककथा ‘नागकन्या’

सार – जिस तरह राजा ने जनता को मौका दिया वैसे ही हमारा ईश्वर हमें रोजाना मौका देता है कुछ न कुछ पाने का। लेकिन हम सभी नादान हैं और ईश्वर की बनाई हुई चीज़ों को पाने में अपनी पूरी शक्ति लगा देते हैं। किसी को गाड़ी चाहिए तो किसी को बंगला, किसी को पैसा तो किसी को शोहरत। लेकिन जो सत्य को पहचान लेता है वह भगवान की चीज़ें नहीं बल्कि भगवान को ही प्राप्त करने की कोशिश करते हैं। इसलिए उस ईश्वर की स्तुति करो, उसे पाने की कोशिश करो फिर उसकी हर चीज़ आपकी हो जाएगी। हिंदी सोच से साभार।

Hindi Kahani : एक सच्चे संत की कहानी

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.