Hindi Kahani : गाँव वालों की रेस

0

एक गाँव में एक तालाब था, जिसमें कई तरह के डरावने जीव-जंतु रहते थे। जैसे मगरमच्छ, साँप, मेढ़क इत्यादि। इन जीवों की डर की वजह से गाँव के किसी भी व्यक्ति में हिम्मत नहीं थी कि वो उस तालाब में एक सेकेण्ड के लिये भी घुस जाये।

तालाब में घुसना तो दूर कुछ लोग तो उसके पास भी जाने से डरते थे।

Hindi Kahani : महिलाओं का खुला राज़

इस बात को ध्यान में रखते हुए गाँव वालो ने एक दिन एक रेस करवाने की सोची जिसमें जो व्यक्ति पहले उस तालाब में तैर के एक किनारे से दूसरे किनारे तक पहुँच जाता उसे एक बड़ा इनाम दिया जाता।

धीरे-धीरे समय बीतता गया और रेस का दिन आ गया, रेस देखने के लिये आस-पास के गाँव के लोगों की भीड़ लगी हुई थी, लेकिन रेस में भाग लेने के लिये कोई भी नहीं तैयार था।

तालाब में साँप और मगरमच्छ को देखकर सब इतने घबराये हुए थे कि किसी की भी हिम्मत नहीं हो रही थी कि कोई इस रेस मे भाग ले, इतने में एक इंसान ने तालाब में छलांग लगा दी और देखते ही देखते वो तालाब के दूसरे किनारे पर जा खड़ा हुआ।

Hindi Kahani : आलसी ब्राह्मण

सब लोग ये द़ृश्य देखकर हैरान हो गये कि जहां गाँव के किसी भी व्यक्ति में हिम्मत नहीं थी कि वो तालाब के किनारे तक भी चला जाये वही ये इंसान बिना डरे उस पार निकल गया।

वहाँ पर न्यूज वाले भी आये हुए थे और वो सब दौड़कर उस इंसान के पास गये और बोलने लगे कि आपने बहुत बहादुरी का काम किया है, आपको बहुत बड़ा इनाम दिया जायेगा, तो इसके बारे में आप क्या कहना चाहोगे।

वो इंसान बोला, भाड़ में जाये इनाम और भाड़ में जाओ आप पहले ये बताओ मुझे पीछे से धक्का किसने दिया।

Hindi Kahani : बच्चों को भ्रमित न करो

कहानी से सीख – वैसे तो इस कहानी से आप बहुत कुछ सीख सकते हो लेकिन एक जो सबसे महत्वपूर्ण चीज सीखने की है वो ये है कि हममें कुछ कर दिखाने कि शक्ति तो बहुत है लेकिन असफल होने के डर से हम प्रयास तक नहीं करते जो हमारी जिंदगी की सबसे बड़ी गलती होती है।

साभार – हिन्दी कहानी

Share.