रेगिस्तान के बीच बसे एक शहर में फलों की बहुत कमी थी

0

रेगिस्तान के बीच बसे एक शहर में फलों की बहुत कमी थी . भगवान ने अपने दूत को भेजा कि जाओ और लोगों से कह दो कि हो सके तो वो एक दिन में बस एक ही फल खाएं .

सभी लोग ऐसा ही करने लगे .

पीढ़ी दर पीढ़ी ऐसा ही होता चला
आया और वहां का पर्यावरण संरक्षित हो गया . चूँकि बचे हुए फलों के बीजों से और भी पेड़ निकल आते , कुछ दशकों में ही पूरा शहर हरा-भरा हो गया .

मुझको यक़ीं है सच कहती थीं जो भी अम्मी कहती थीं

अब वहां फलों की कोई कमी नहीं थी लेकिन अभी भी लोग एक दिन में बस एक ही फल खाने का पुराना रिवाज़ मानते थे – वे अपने पुरखों द्वारा दी गयी नसीहत के प्रति अभी भी वफादार थे . दूसरे शहर वाले उनसे बचे हुए फलों को देने का आग्रह करते पर उन्हें लौटा दिया जाता . नतीजतन टनो – टन फल बर्बाद हो जाते और सड़कों पर इधर -उधर बिखरे पड़े रहते .

भगवान ने एक और दूत को बुलाया और कहा , ” जाओ नगर वासियों से कह दो कि वो अब जितना चाहें उतने फल कहें और बचे हुए फलों को बाकी शहरों को दे दें .”

दूत यही सन्देश लेकर शहर पहुंचा लेकिन उसे पत्थरों से मार गया और शहर से दूर भगा दिया गया . लोगों के दिलो -दिमाग में पुरानी बात इतनी बैठ चुकी थी कि उससे अलग वो किसी भी बात को मानने के लिए तैयार नहीं थे .

एक आकाश पहाड़ की चोटी पर एक गड्ढे में

पर समय के साथ कुछ युवा सोच वाले लोग पुराने रिवाजों के खिलाफ आवाज़ उठाने लगे . लेकिन इतनी पुरानी परंपरा को छोड़ना आसान न था इसलिए इन लोगों ने अपना धर्म ही छोड़ दिया और अब जी भर के फल खाने लगे और बचे हुए फलों को दूसरों में बांटने लगे .

कुछ सालों में बस वो ही लोग धर्म को मानने वाले बचे जो खुद को संत मानते थे . लेकिन हकीकत में वे ये नहीं देख पा रहे थे कि दुनिया कैसे बदलती है और कैसे खुद को समय के साथ बदल लेना चाहिए .

(इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त कहानी )

Hindi Poem : एक किताब है ज़िन्दगी बनते बिगड़ते हालातों का हिसाब है जिंदगी

-Mradul tripathi

Share.