उसका लक्ष्य था कि वह एक बेहद ही प्रसिद्ध लेखक

0

उसका लक्ष्य था कि वह एक बेहद ही प्रसिद्ध लेखक ब्राजीलियन लेखक पाउलो कोएल्हो की तरह बनना चाहता था एवं उनकी किताबें पढ़ता रहता था. वह अभी मात्र 18 साल का ही था लेकिन उसने लगभग 5 से 6 किताबें अपने द्वारा लिख चुका था।

शिव एक गरीब परिवार से संबंध रखता था इसलिए उसके माता – पिता उसके लेखक बनने से बिल्कुल भी पसंद नहीं थे और वह चाहते थे कि उनका पुत्र भी सरकारी नौकरी करें जिससे उन्हें गांव एवं समाज में इज्जत मिले और इसी बात को लेकर वे शिव पर बहुत ज्यादा दबाव बनाया करते थे कि वह लेखक ना बन कर पढ़ लिख कर एक अच्छी सी नौकरी करें। इसी दबाव के चलते शिव का ध्यान अपने लक्ष्य से हट गया और वह पढ़ने लिखने में भी अपना ध्यान नहीं लगा पाया.

Bedtime Stories : प्रार्थना की एक अनदेखी कड़ी

जिसके कारण उसका मानसिक संतुलन गड़बड़ हो जाता है और उसका मन किसी भी कार्य में नहीं लगता । यह सब देखकर उसके माता-पिता एवं उसके गांव वासी उसके प्रति चिंतित हो गये तभी गांव में एक वृद्ध व्यक्ति शिव के माता पिता को यह सलाह देता है कि आप इसके शिक्षक से बात करें और इस समस्या का कोई समाधान निकालने की कोशिश करें।

तभी शिव के माता पिता उसके स्कूल के शिक्षक के गये एवं उनसे बात करते हैं कि शिव पहले बहुत पढ़ाई करता था लेकिन अब उसका ध्यान ना तो पढ़ाई में और ना ही किसी अन्य कार्यों में लगता है. जब शिव के माता – पिता उसके शिक्षक से बात करते हैं तो शिक्षक उसके माता-पिता को बताते हैं कि आपका पुत्र बहुत ही होशियार छात्र है लेकिन वह सरकारी नौकरी नहीं करना चाहता था वह एक लेखक बनना चाहता है एवं उसने बहुत सी किताबें भी लिखी थी जो कि बेहद ही सुंदर किताब थी.

शिक्षक शिव के माता पिता से पूछते हैं क्या आपने कभी उसकी किताब पढ़ी हैं तो इस प्रश्न के जवाब में उसके माता पिता कहते हैं कि नहीं हमने उसकी किताबें नहीं पड़ी है। शिक्षक की यह बात सुनकर शिव के माता पिता को यह बात समझ में आ जाती है कि उनका पुत्र जो कार्य कर रहा है वह गलत नहीं है एवं अब वह उसे सरकारी नौकरी के लिए परेशान ना करते हुए उसे एक लेखक बनने में मदद करने लगते हैं।

Hindi Kahani : ज़िन्दगी में कुछ पाने के लिए हमें कुछ त्यागना पड़ता है

जिसके कारण शिव अपने सपनों को पूरा करने में लग जाता है और वह इस क्षेत्र में बहुत नाम भी कमाता है और अपनी कमाई से माता – पिता की भी सहायता करता है।

इस कहानी से शिक्षा –

इस कहानी के माध्यम से मैं उन माता-पिता को यह कहना चाहता हूं जो अपने बच्चों पर दबाव डालते हैं । वह यह दबाव डालकर उनके सपनो और खुशियों का गला घोंट देते है. इसलिए उनके सपनों को पूरा करने के लिए उनकी मदद करें जिससे वह शिव की तरह अपने जीवन में सफल हो सके और उनकी राह में बाधा ना बनकर उनकी सपनों की लाठी बनने की कोशिश करें जिससे वह एक सफल इंसान बन सके।

Hindi Poem : ढीली करो धनुष की डोरी, तरकस का कस खोलो

(इंटरनेट के माध्यम से प्राप्त शिक्षाप्रद कहानी )

-Mradul tripathi

Share.