website counter widget

Chetak Ki Veerta : रण बीच चौकड़ी भर-भर कर चेतक बन गया निराला था

0

रण बीच चौकड़ी भर-भर कर
चेतक बन गया निराला था
राणाप्रताप के घोड़े से
पड़ गया हवा का पाला था

जो तनिक हवा से बाग हिली
लेकर सवार उड़ जाता था
राणा की पुतली फिरी नहीं
तब तक चेतक मुड़ जाता था

रण बीच चौकड़ी भर-भर कर चेतक बन गया निराला था

गिरता न कभी चेतक तन पर
राणाप्रताप का कोड़ा था
वह दौड़ रहा अरिमस्तक पर
वह आसमान का घोड़ा था

था यहीं रहा अब यहाँ नहीं
वह वहीं रहा था यहाँ नहीं
थी जगह न कोई जहाँ नहीं
किस अरिमस्तक पर कहाँ नहीं

Hindi Poem : बहुत समय पहले की बात है

निर्भीक गया वह ढालों में
सरपट दौडा करबालों में
फँस गया शत्रु की चालों में

बढ़ते नद-सा वह लहर गया
फिर गया गया फिर ठहर गया
विकराल वज्रमय बादल-सा
अरि की सेना पर घहर गया

भाला गिर गया गिरा निसंग
हय टापों से खन गया अंग
बैरी समाज रह गया दंग
घोड़े का ऐसा देख रंग

(साभार: श्यामनारायण पाण्डेय द्वारा लिखित कविता’ चेतक की वीरता’)

Hindi Poem : मैं हूँ एक प्यारी सी धरती

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.