फूलों से नित हँसना सीखो, भौंरों से नित गाना।

0

फूलों से नित हँसना सीखो, भौंरों से नित गाना। (Hindi Poem Sikho)
तरु की झुकी डालियों से नित, सीखो शीश झुकाना!

सीख हवा के झोकों से लो, हिलना, जगत हिलाना!
दूध और पानी से सीखो, मिलना और मिलाना!

सूरज की किरणों से सीखो, जगना और जगाना!
लता और पेड़ों से सीखो, सबको गले लगाना! (Hindi Poem Sikho)

वर्षा की बूँदों से सीखो, सबसे प्रेम बढ़ाना!
मेहँदी से सीखो सब ही पर, अपना रंग चढ़ाना!

मछली से सीखो स्वदेश के लिए तड़पकर मरना!
पतझड़ के पेड़ों से सीखो, दुख में धीरज धरना!

पृथ्वी से सीखो प्राणी की सच्ची सेवा करना!
दीपक से सीखो, जितना हो सके अँधेरा हरना! (Hindi Poem Sikho)

जलधारा से सीखो, आगे जीवन पथ पर बढ़ना!
और धुएँ से सीखो हरदम ऊँचे ही पर चढ़ना!

(साभार: श्रीनाथ सिंह द्वारा लिखित कविता “सीखो”)

Hindi Poem : एक किताब है ज़िन्दगी बनते बिगड़ते हालातों का हिसाब है जिंदगी

Hindi Poem : ख़ुद को आख़िर इतना मजबूर क्यूँ होने दें

Hindi Poem : छिप-छिप अश्रु बहाने वालों, मोती व्यर्थ बहाने वालों

Share.