हाकिम बहरे के बहरे

0

हाकिम
बहरे के बहरे!

गुल
गुलशन
गुलफ़ाम कहां!
हम तो
ग़ुलाम ठहरे!!
हाकिम
बहरे के बहरे!!!

किसके आगे दिल को खोलें,
कौन सुनेगा किस को बोलें,
किसे सुनाएं कड़वा किस्सा
बांटे कौन दर्द में हिस्सा?

कहने भर को लोकतंत्र है,
यहां लुटेरा ही स्वतंत्र है,
खाद नहीं बन पाई खादी
पनप नहीं पाई आज़ादी।

भर-भर के भरमाया हमको,
खादी खा गई दीन-धरम को,
भाई चर गए भाईचारा
तोड़ दिया विश्वास हमारा।

नेता अपने भोले-भाले
ऊपर भोले अन्दर भाले
डरते हैं अब रखवालों से
घायल हैं उनके भालों से।

घाव बड़े गहरे
हाकिम बहरे के बहरे।

गुल
गुलशन
गुलफ़ाम कहां!
हम तो
ग़ुलाम ठहरे!!
हाकिम
बहरे के बहरे!!!

लाश में अटकी आत्मा

आत्मा अटकी हुई थी लाश में,
लोग जुटे थे हत्यारे की तलाश में।
सबको पता था कि हत्यारा कौन था,
लाश हैरान थी कि हर कोई मौन था।
परिवार के लोगों के लिए
आत्महत्या का मामला था,
ऐसा कहने में ही कुछ का भला था।
अच्छा हुआ मर गया,
एक पोस्ट खाली कर गया।
अचानक पड़ोसियों में
सहानुभूति की एक लहर दौड़ी
उन्होंने उठाई हथौड़ी।
सारी कील निकालकर खोला ताबूत।
पोस्टमार्टम में एक भी नहीं था
आत्महत्या का सबूत।
उन्होंने मृतक के पक्ष में
चलाया हस्ताक्षर अभियान,
सारे पड़ोसी करुणानिधान।
काम हो रहा था नफ़ीस,
कम होने लगी लाश की टीस।
सबके हाथों में पर्चे थे,
पर्चों में मृतक के गुणों के चर्चे थे।
अजी मृतक का कोई दोष नहीं था,
आरोपकर्ताओं में
बिलकुल होश नहीं था।
हस्ताक्षर बरसने लगे,
लाश के जीवाश्म सरसने लगे।
और जब अंत में मुख्य हत्यारे ने भी
उस पर्चे पर हस्ताक्षर कर दिया,
तो लाश आत्मा से बोली—
अब इस शरीर से जा मियां!
तेरी सज्जनता के सिपाहियों ने
पकड़ लिया है हत्यारे को।
परकाया प्रवेश के लिए
ढूंढ अब किसी और सहारे को।
भविष्य का रास्ता साफ़ कर,
हत्यारों को माफ़ कर।

अशोक चक्रधर

-अभिषेक

Poem : हिम्मत की कविता

कविता कुछ ऐसी भी है

गुलजार की त्रिवेणी

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.