website counter widget

image1

image2

image3

image4

image5

image6

image7

image8

image9

image10

image11

image12

image13

image14

image15

image16

image17

image18

प्रसिद्ध कवि विष्णु खरे को ब्रेन स्ट्रोक, इलाज जारी

0

केन्द्रीय साहित्य अकादमी में उपसचिव रहे और इंदौर से प्रकाशित ‘दैनिक इंदौर’ में उपसंपादक रहे मशहूर कवि विष्णु खरे को ब्रेन स्ट्रोक हुआ, जिसके बाद उन्हें दिल्ली के जीबी पंत अस्पताल में भर्ती किया गया है। उन्हें बुधवार तड़के ब्रेन स्ट्रोक आया, जिसके बाद उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। उन्हें  आईसीयू में रखा गया गया है, जहां उनका इलाज जारी है। फिलहाल खरे होश में हैं, लेकिन बोल नहीं पा रहे हैं। उनके शरीर के बाएं हिस्से में लकवा मार गया है।  उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है। 78 वर्षीय विष्णु खरे को ब्रेन स्ट्रोक आने के बाद अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में  9 फ़रवरी 1940 को जन्मे विष्णु खरे ने अपने करियर की शुरुआत पत्रकारिता से की थी। अपनी महाविद्यालय की पढ़ाई करने विष्णु खरे इंदौर आ गए। वहां से 1963 में क्रिश्चियन कॉलेज से अंग्रेजी साहित्य में उन्होंने स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की।

वे कवि के साथ ही अनुवादक, फिल्म आलोचक और पटकथा लेखक भी रहे हैं। विष्णु खरे ने दुनिया के महत्वपूर्ण कवियों की कविताओं के चयन और अनुवाद का विशिष्ट कार्य किया है। मौजूदा समय में खरे मयूर विहार के हिंदुस्तान अपार्टमेंट में किराये के एक कमरे में अकेले रहते हैं। वे कुछ समय पहले दिल्ली छोड़कर अपने बच्चों के पास मुंबई चले गए थे। हाल ही में उन्हें दिल्ली हिन्दी अकादमी का उपाध्यक्ष बनाया गया था, जिसके बाद वे वापस आ गए।

विष्णु खरे को ब्रेन स्ट्रोक की खबर मिलते ही साहित्य जगत से जुड़े बड़े लोग उनका स्वास्थ्य जानने अस्पताल पहुंच रहे हैं। साथ ही दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया ने उन्हें जीबी पंत अस्पताल ले जाने और इलाज की सारी व्यवस्था को लेकर निश्चिंत रहने का आश्वासन दिया है।

जीबी पंत अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार, उन्हें लाने में हुई देरी के कारण उनकी स्थिति थोड़ी जटिल बनी हुई है। साहित्य जगत से जुड़े बड़े लोग मंगलेश डबराल, रवींद्र त्रिपाठी, विष्णु नागर, देवीप्रसाद मिश्र, पंकज राग उनका हालचाल  जानने अस्पताल पहुंचे।

द टैलेंटेड इंडिया टॉक शो
Share.