लेखक व पत्रकार भगवती कुमार शर्मा का निधन…

0

गुजराती भाषा के प्रसिद्ध लेखक और पत्रकार भगवती कुमार शर्मा का निधन हो गया| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन के बाद शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया| वर्ष 1984 में उन्हें रंजीतराम सुवर्ण चंद्रक पुरस्कार और वर्ष 1988 में साहित्य में विशिष्ट काम के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया था|

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, “भगवती कुमार शर्माजी, एक प्रसिद्ध गुजराती लेखक और पत्रकार के निधन से भारी दुःख है| शिक्षाविदों, साहित्य और सीखने की दिशा में उनका जुनून बेहद उल्लेखनीय था| उनके द्वारा लिखे गए लेख और उनके कार्यों को हमेशा याद किया जाएगा| इस दुःख में हम उनके परिवार और शुभचिंतकों के साथ हैं|”

भगवती कुमार शर्मा ने अपनी पहली कविता महात्मा गांधी की मृत्यु पर 31 जनवरी, 1948 को लिखी थी| वे वर्ष 2009 में गुजराती साहित्य परिषद के अध्यक्ष चुने गए और 2011 तक इस पद पर बने रहे|

भगवती कुमार शर्मा की रचनाएं 

आरती अने अंगारा (1957), मन नहीं माने ( 1962) रिक्ता (1968), व्याप्तमध्याय (1970), सामयद्वीप (1974), उरधवमूल (1981), द्वार नहीं खुले, प्रेमयात्रा, विति जशे आ रत?, ना किनारो, ना मजधर (1965), हरिदाश्रन, निर्विकल्प (2006), दीप से दीप जले (1959), हृदयदाण (1960), रतानी, महेक माली गाई, तमने फुल दीदानु याद नाथी (1970), कई याद नाथी (1974), व्यार्थ काको आदि प्रमुख रचनाएं उनके द्वारा लिखी गई हैं|

Share.