आपके तनाव की वजह कहीं आपका स्मार्टफोन तो नहीं!

0

सावधान हो जाइए, यदि आप भी हमेशा अपने फ़ोन से चिपके रहते हैं तो यह लत आपको तनाव दे सकती है, आपकी रातों की नींदें उड़ सकती है, आपको बेचैन कर सकती है| दरअसल, हाल ही में हुए एक शोध में यह बात सामने आई है कि जो लोग मोबाइल फ़ोन का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं, जल्दी तनाव के शिकार हो जाते हैं| हमने अक्सर लोगों को घंटों फ़ोन का इस्तेमाल करते देखा है| जब से सोशल मीडिया ने गति पकड़ी है, तब से लोगों में तनाव की समस्या ज्यादा बढ़ गई है| फ़ोन के कारण रिश्ते टूटने के भी कई मामले सामने आ चुके हैं|

शोध में बताया गया है कि ऐसे लोग जो अकेले होते हैं या फिर भावनात्मक रूप से कमजोर होते हैं, वे तनाव के जल्दी शिकार बनते हैं| ऐसे लोगों में तनाव का स्तर सामान्य लोगों से ज्यादा होता है| ये लोग सिगरेट, शराब या अन्य नशीले पदार्थों के आदी हो जाते हैं| जब व्यक्ति तनाव में होता है तो पहले तो उसे नशीले पदार्थ सुकून देते हैं, लेकिन बाद में यही सुकून गंभीर बीमारी में बदल जाता है|

ऐसे लोग जो चिंता और डिप्रेशन से पीड़ित थे, उन पर शोध किया गया| इसके बाद यह बात सामने आई कि ऐसे लोग स्मार्टफोन का ज्यादा इस्तेमाल करते हैं| ये लोग अपने फोन का इस्तेमाल मेडिकल थेरेपी के रूप में करते हैं|  इस बारे में ब्रिटेन के डर्बी विश्वविद्यालय के मनोविज्ञानी डॉ.जहीर हुसैन का कहना है कि फ़ोन के ज्यादा इस्तेमाल से व्यक्ति कई समस्याओं से घिर जाता है| ऑस्ट्रेलिया यूनिवर्सिटी ऑफ एडीलेड की शोधकर्ता ने जूली मॉर्गन ने पहले से की गई रिसर्च के नतीजों की समीक्षा की| उनका कहना है कि उदासी, चिंता तनाव होने पर हम स्मार्टफोन के नजदीक आ जाते हैं और उसके लगातार इस्तेमाल से हमें सुकून मिलता है| हमें फ़ोन से दूरी बनाकर रखनी चाहिए और लोगों से मिलना-जुलना बढ़ाना चाहिए|

Share.