website counter widget

पुरषों का बलात्कार करती हैं इस जनजाति की महिलाएं

0

इस दुनिया में कई रहस्यमयी जगह हैं तो वैसी ही कई जनजातियां भी हैं जिनकी परम्पराएं बेहद ही विचित्र और अजीबोगरीब हैं। कई जनजातियों के बारे में तो लोग आज भी नहीं जानते। इन जनजातियों के अपने अलग नियम कानून होते हैं। चाहे वह किसी त्यौहार को लेकर हो या फिर शादी-ब्याह को लेकर। इनकी परम्पराएं बेहद विचित्र होती हैं और ये लोग सदियों से ऐसी प्रथा को निभाते आ रहे हैं। सेक्स की बात की जाए तो भी इन जनजातियों की बेहद विचित्र परम्परा सामने आती है। आज भी दुनिया में ऐसी कई जनजातियां निवास करती हैं जिनके सेक्स को लेकर बेहद विचित्र रीती-रिवाज हैं। आज हम आपको ऐसी ही एक जनजाति के बारे में बताने जा रहे हैं।

आज हम आपको जिस जनजाति के बारे में बताने जा रहा है उस समुदाय के लोगों की सेक्स को लेकर एक अलग ही रीति है। इस जनजाति की महिलाओं को सेक्स को लेकर पूरी छूट मिली हुई है। मतलब यहां की महिलाएं किसी भी पुरुष के साथ जब चाहे शारीरिक संबंध स्थापित कर सकती हैं। इतना ही नहीं इस जनजाति की महिलाएं किसी भी पुरुष के साथ आजादी के साथ कहीं भी घूम सकती हैं।

हम बात कर रहे हैं तुआरेग जनजाति के बारे में। ये जनजाति उत्तरी अफ्रीका के देशों जैसे माली, नाइजर, लीबिया, अल्जीरिया और चाड समेत सहारा रेगिस्तान में निवास करती हैं। इस जनजाति में अधिकतर मुस्लिम समुदाय होते हैं। इस जनजाति की महिलाओं को पूरी आजादी प्राप्त है। वे किसी भी पुरुष के साथ घूम सकती हैं और किसी भी पुरुष को सेक्स के लिए आमंत्रित भी कर सकती हैं।

जिस तरह किसी महिला की रजामंदी के बिना उसके साथ जबरदस्ती संबंध बनाने को बलात्कार कहा जाता है, और पूरी दुनिया में महिलाएं ही इसकी शिकार होती हैं। वहीं इस जनजाति में महिलाएं किसी भी पुरुष का बलात्कार कर सकती हैं। मतलब यहां की महिलाएं जिस पुरुष के साथ चाहे उसके साथ संबंध स्थापित कर सकती हैं फिर चाहे उस पुरुष की रजामंदी हो या नहीं। यहां की महिलाएं चाहें तो पुरुष के साथ जबरदस्ती भी कर सकती हैं।

हालांकि इस जनजाति के लोगों को कुछ नियमों का पालन भी करना होता है। जैसे यदि कोई महिला किसी पुरुष को सेक्स के लिए बुलाती है तो उसे सूर्यास्त के बाद महिला के पास जाना होता है। वहीं महिला के साथ रात गुजारने के बाद सूर्योदय के पहले ही उसके घर से निकलना होता है।

इस दौरान महिला का पूरा परिवार भी उसी टेंट में रहता है। अर्थात महिला के परिवार के सामने ही महिला से संबंध स्थापित करना होता है। परिवार इसे सामान्य मानता है और उनकी प्रतिक्रिया भी बेहद सामान्य होती है। इस जनजाति में महिलओं को नहीं बल्कि पुरुषों को अपना चेहरा ढंक कर रहना पड़ता है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.