website counter widget

पीरियड्स के दौरान सेक्स होता है सबसे बेहतर

0

वैसे तो आमतौर पर सेक्स को लेकर महिलाओं का मानना है कि पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से बचना चाहिए। क्योंकि इस दौरान लगातार होने वाली ब्लीडिंग से महिलाएं कमजोरी महसूस करती हैं और वे कम्फर्टेबल महसूस नहीं करती। हालांकि अधिकतर महिलाएं इस दौरान सेक्स करने से बचती हैं। वहीं कुछ लड़कियां व महिलाएं ऐसी भी हैं जिन्हें पीरियड्स के दौरान सेक्स करने से ज्यादा आनंद की अनुभूति होती है।

गौरतलब है कि पीरियड्स के दौरान लड़कियों के शरीर में कई तरह के हॉर्मोनल बदलाव होते हैं जो महिलाओं की उत्तेजना को बढ़ाने का कार्य करते हैं। जब महिलाओं में उत्तेजना काफी बढ़ जाती है तो वे सेक्स करने से परहेज नहीं करती और ऐसे में उन्हें ज्यादा आनंद भी मिलता है।

पीरियड्स के दौरान कई महिलाओं को अत्यधिक दर्द, ऐंठन और ब्लीडिंग होती है। ऐसे में पार्टनर के साथ फोरप्ले करने से उन्हें दर्द व ऐंठन से छुटकारा मिलता है। क्योंकि यह हैपी हॉर्मोन्स को उत्सर्जित करता है।

जब पार्टनर महिला साथी को प्यार से सहलाता है और उसके साथ फोरप्ले करता है तो इस दौरान मस्तिष्क में इन्डॉर्फिन हॉर्मोन रिलीज होने लगता है। यह हार्मोन ख़ुशी प्रदान करता है और महिलाओं को पीरियड्स के दर्द से निजात दिलाता है।

कई महिलाओं को पीरियड में सेक्स करने से बॉडी में फील होने वाली हेविनेस कम हो जाती है। तो वहीं कई महिलाओं को इस दौरान होने वाली हेवी ब्लीडिंग से भी राहत मिलती है।

पीरियड्स के दौरान महिलाओं में चिड़चिड़ापन काफी बड़ जाता है। जब महिलाएं इस दौरान सेक्स करती हैं तो इन्डॉर्फिन हॉर्मोन रिलीज होने की वजह से उन्हें ख़ुशी और आनंद की अनुभूति होती है। आनंद मिलने पर उनका चिड़चिड़ा स्वभाव भी परिवर्तित हो जाता है।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.