website counter widget

आ गया है ऐसा इंजेक्शन जो नहीं होने देगा गर्भ धारण

0

आज यानी 19 नवंबर मंगलवार को पूरे विश्व में अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस मनाया गया। वहीं इस मौके पर भारतीय वैज्ञानिकों ने एक खुशखबरी दी है। आज इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के शोधकर्ताओं ने पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक का क्लीनिकल परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। जी हां  इस ट्रायल के बाद शोधकर्ताओं ने कहा कि यह गर्भनिरोधक इंजेक्शन के रूप में होगा। पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक इंजेक्शन का आविष्कार कर भारतीय वैज्ञानिकों ने बहुत बड़ी उपलब्धि हासिल कर ली है। इस गर्भनिरोधक को अपनी तरह का दुनिया का पहला गर्भनिरोधक बताया जा रहा है। अभी तक पुरषों का एक मात्र गर्भ निरोधक सिर्फ नसबंदी है जो पूरी दुनिया में प्रचलित है।

सोशल मीडिया कहीं तोड़ न दे आपका रिश्ता

पुरुषों के लिए गर्भनिरोधक की खोज करने और इसे विकसित करने के शोध कार्य में शामिल शोधकर्ताओं के अनुसार इस गर्भनिरोधक का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया गया है। परीक्षण पूर्ण हो जाने के बाद अब इसे मंजूरी के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) को भेज दिया गया है। एक अंग्रेजी अखबार की खबर के अनुसार यह गर्भनिरोधक इंजेक्शन एक बार लगाए जाने पर तकरीबन 13 साल तक प्रभावी रहेगा। लगभग 13 साल बाद यह बेअसर हो जाएगा। शोधकर्ताओं ने पुरुषों की नसबंदी के विकल्प के रूप में इस इंजेक्शन को विकसित किया है। अब पुरुष नसबंदी करवाने से बच सकेंगे और इस गर्भनिरोधक इंजेक्शन के इस्तेमाल से आने वाले 13 सालों तक सुरक्षित रह सकेंगे।

इन 5 टिप्स की मदद से किसी भी लड़की को चुटकियों में करें इम्प्रेस

इस मामले में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. शर्मा ने कहा, “यह दवा तैयार है, केवल ड्रग कंट्रोलर की मंजूरी का इंतजार है। ट्रायल पूरा हो चुका है। इसके परिक्षण का तीसरा चरण भी पूरा हो चुका है। इस चरण में इसका 303 लोगों पर परिक्षण किया गया। इसमें 97.3 फीसदी सफलता मिली। इस दौरान इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हुआ। इसे दुनिया का सबसे पहला पुरुष गर्भनिरोधक कहा जा सकता है।” बता दें कि इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) भारत में बायोमेडिकल में शोध के लिए सबसे बड़ी संस्था है।

बुद्धिमान बनने के लिए रोजाना सेक्स है जरूरी

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.