कौन है सांता क्लॉज जानिए पूरी कहानी

0

क्रिसमस को केवल 1 दिन का समय शेष रह गया है। क्रिसमस का त्यौहार ईसाई धर्म का सबसे बड़ा त्यौहार है जो पूरे देश में 25 दिसंबर को मनाया जाता है। कहा जाता है कि क्रिसमस के दिन ईसा मसीह(Santa Claus) यानि प्रभु यीशु का जन्म हुआ था। दुनिया भर के कई देशों बड़ी धूम-धाम से इस त्यौहार को मनाया जाता है। चलिए जानते हैं क्रिसमस से जुड़ी कुछ ख़ास बातों के बारे में।

क्रिसमस के त्यौहार पर एक तरह के पेड़ को सजाया जाता है और इस पेड़ को क्रिसमस ट्री कहा जाता है। इस पर रंग-बिरंगी लाइट्स और तोहफे आदि लटकाए जाते हैं। कहा जाता है घर में इस पेड़ को सजाने से घर की नकारात्मक और बुरी शक्ति दूर हो जाती है।

ऐसा कहा जाता है कि इस पेड़ को सजाने की शुरुआत जर्मनी से हुई थी। यहां के लोगों का कहना है कि यीशु के माता-पिता को शुभकामनाएं देने के लिए फर के पेड़ को देवदूतों ने सितारों से सजाया था। तभी से यह परंपरा चली आ रही है।

वहीं इस त्यौहार पर सांता क्लॉज(Santa Claus) गिफ्ट देने आते हैं यह बात भी आम है। दरअसल संत निकोलस को सांता क्लॉज माना जाता है। संत निकोलस रात के वक़्त जरूरतमंद लोगों को उपहार बांटते थे और उनका पूरा जीवन जरूरतमंद लोगों की मदद में ही बीता है।

आपने क्रिसमस के मौके पर क्रिसमस ट्री पर मोज़े लटके देखे होंगे और मोज़े में गिफ्ट वाली बात भी जरूर सुनी होगी। इसके पीछे वजह यह है कि ऐसा कहा जाता है कि एक बार एक जरूरतमंद की मदद के लिए संत निकेलस ने जुराब में सोना छुपा दिया था। तभी से सीक्रेट सांता बनाने और मोज़े को क्रिसमस ट्री पर लटकाने व छुपाने का रिवाज शुरू हुआ।

‘झक्कास’ एक्टर अनिल कपूर हुए 63 साल के

Janu Mein Betho Pardesha : जारी हुआ रोमांटिक राजस्थानी गाना

Gajban Pani Ne Chali : सोनल ने अपने डांस से फिर लगाई आग

Prabhat Jain

Share.