इस तरह मनाएं इको-फ्रेंडली दिवाली

0

दिवाली (Diwali 2019) में मात्र 4 दिन ही शेष रह गए हैं। दिवाली हर किसी को आकर्षित करती है। बच्चे, बूढ़े, नौजवान हर कोई दिवाली का बड़ी ही बेसब्री से इंतजार करता दिखाई दे रहा है। लगभग हर किसी की सभी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। सभी ने अपने-अपने घरों और दुकानों की साफ़-सफाई कर उसे दुल्हन की तरह सजा लिया है। अब हर कोई बस माता लक्ष्मी के आगमन की राह तक रहा है। हर व्यक्ति दिवाली की पूजा करने के साथ इसे धूम-धाम से मनाने के लिए बेहद उत्सुक नज़र आ रहा है।

हालांकि तेजी से बदलते मौसम और बढ़ते प्रदुषण की वजह से लोग दिवाली पर पटाखे चलाने से कतराने लगे हैं। इस वजह से लोग अपनी सेहत को लेकर ज्यादा गंभीर नजर आ रहा हैं और सभी के मन में सेहत को लेकर काफी दर भी बना हुआ है। लेकिन दिवाली बिना पटाखों के बिना अधूरी है। ऐसे में अगर इको-फ्रेंडली दिवाली मनाई जाए तो इससे प्रदुषण को नुकसान पहुंचाए बिना ही दिवाली को बेहद अच्छे से सेलिब्रेट किया जा सकता है। इसका फायदा पूरे देश को होगा और सभी खुलकर दिवाली का मजा भी ले सकते हैं।

इको फ्रेंडली दिवाली मानाने को लेकर कई लोगों का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि इको फ्रेंडली दिवाली कैसे मनाई जाती है। तो आपको बता दें कि इसके कई टिप्स हैं जिन्हें इस्तेमाल कर आप भी पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए बिना इको फ्रेंडली दिवाली मना सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इसे मानाने के तरीके।

पीएम मोदी ने सिंगल यूस प्लास्टिक का इस्तेमाल प्रतिबंधित कर दिया है और लोग भी इसके घातक परिणाम जानते हैं। इतना सब जानने के बाद भी लोग प्लास्टिक बैग का इस्तमाल करते है। लेकिन इस दिवाली आप इनका इस्तेमाल बंद कर इसकी जगह कपडे या फिर जूट बैग का इस्तेमाल कर सकते हैं।

दिवाली के गिफ्ट की पैकिंग के लिए भी प्लास्टिक रैपर की जगह ग्रीन फैब्रिक या फिर अखबार से बने पेपर का इस्तेमाल कर इको-फ्रेंडली दिवाली मन सकते हैं।

दिवाली पर बड़े-बड़े लैंप जलाने की जगह आप एलईडी लाइट का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस तरह आप इको-फ्रेंडली दिवाली मन सकते हैं। इससे न सिर्फ पर्यावरण सुरक्षित रहेगा बल्कि अतिरिक्त बिजली की खपत से बचा जा सकता है।

वैसे तो दिवाली का असली मजा पटाखों से ही आता है। लेकिन इससे अत्यधिक मात्रा में वायु प्रदुषण होता है। इसलिए जहां तक हो सके इनसे दूरी बनाएं। इसके लिए आप दूसरों को भी जागरूक कर सकते हैं। ऐसा नहीं है कि दिवाली के मौके पर पटाखे चलाएं ही न जाएं। लेकिन इस दौरान आप ऐसे पटाखों का इस्तेमाल न करें जिससे ज्यादा धुंआ पैदा होता हो।

दिवाली पर लोग एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं और मिठाई बांटते हैं। ऐसे में घर में मिठाई का ढेर लग जाता है। कई बार लोग मिठाई और अन्य खाने-पीने की वस्तुओं को फेंक देते हैं। अगर आपके घर में भी ऐसा है तो आप इसे फेंकने की बजाए किसी गरीब को इसे दे दें। आपके इस एक छोटे से कदम से न सिर्फ आप दिवाली का आनंद उठा पाएंगे बल्कि कोई और भी इसका आनंद ले सकेगा। इससे आसपास खुशियां फैलेगी और सभी की दिवाली भी खुशियों से भर जाएगी।

Prabhat jain

Share.