अमरीका संसद ने कुत्ते और बिल्ली के मांस पर लगाया प्रतिबंध

0

अमरीका प्रतिनिधि सभा ने एक विधेयक पारित किया है, जिसके तहत कुत्ते और बिल्ली का मांस खाने पर रोक लगाई जाएगी। कुत्ता और बिल्ली मांस व्यापार निषेध कानून 2018 का उल्लंघन करने पर 5,000 अमरीकी डॉलर का जुर्माना लगाया जाएगा। एक अन्य प्रस्ताव में सदन ने चीन, दक्षिण कोरिया और भारत सहित सभी देशों से कुत्तों और बिल्लियों के मांस के व्यापार पर जल्द रोक लगाने का अनुरोध किया है।

अमरीका प्रतिनिधि क्लाउडिया टेनी कहा कि कुत्ते और बिल्ली पालतू जानवर हैं साथ ही मनोरंजन के लिए होते हैं। दुर्भाग्य से चीन में हर साल खाने के लिए एक करोड़ से अधिक कुत्तों को मार दिया जाता है। भोजन के लिए कुत्तों और बिल्लियों की हत्या के लिए हमारे इस समाज में न तो कोई स्थान है और न ही मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह विधेयक अमरीका के मूल्यों दिखाता है और सभी देशों को एक सख्त संदेश देता है। टेनी ने आगे कहा कि अमरीका इस अमानवीय और क्रूर बर्ताव का साथ कभी नहीं देगा।

प्रस्ताव में चीन, दक्षिण कोरिया, वियतनाम, थाइलैंड, फिलिपींस, कंबोडिया, लाओस, भारत और अन्य देशों की सरकारों से कुत्ते और बिल्लियों के मांस के व्यापार पर प्रतिबंध लगाने को अपनाने और उसे लागू करने का अनुरोध किया है।

चीन में होता है डॉग फेस्टिवल

बता दें कि चीन के युलिसृन शहर में हर वर्ष डॉग फेस्टिवल मनाया जाता है। चीन के लोगों का मानना है कि कुत्ते का मांस खाने से स्वस्थ रहते हैं और गर्मी से बचाव भी होता है। हर साल डॉग फेस्टिवल के लिए 20 से 40 हजार कुत्ते मांस के लिए मारे जाते हैं। कुत्तों के अलावा लोग बिल्लियों का मांस भी खाते है। चीन में पशुओं के लिए कोई कानून नहीं है इसलिए लोग यहां खुलकर ऐसे फेस्टिवल मनाते हैं।

भारत में कानून

– भारतीय संविधान के अनुच्छेद 51ए के अनुसार हर जीवित प्राणी के प्रति सहानुभूति रखना भारत के हर नागरिक का मूल कर्तव्य है।

– कोई भी पशु (मुर्गी सहित) सिर्फ बूचड़खाने में ही काटा जाएगा। बीमार और गर्भधारण कर चुके पशुओं को मार नहीं सकते।

– भारतीय दंड संहिता की धारा 428 और 429 के अनुसार किसी पशु को मारना या अपंग करना भले ही वह आवारा क्यों न हो, दंडनीय अपराध है।

– प्रिवेंशन ऑफ क्रूएलिटी ऑन एनिमल्स एक्ट 1960 के मुताबिक किसी पशु को आवारा छोड़ने पर तीन महीने की सज़ा हो सकती है।

– वाइल्डलाइफ एक्ट के तहत बंदरों से छेड़छाड़ करना या उन्हें कैद मे रखना गैरकानूनी है। – ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक रूल्स 1945 के अनुसार जानवरों पर कॉस्मेटिक्स का परीक्षण करना और जानवरों पर टेस्ट किए जा चुके कॉस्मेटिक्स का आयात करना प्रतिबंधित है।

– लॉटरहाउस रूल्स 2001 के अनुसार देश के किसी भी हिस्से में पशु बलि देना गैरकानूनी है।

– पीसीए एक्ट के सेक्शन 22(2) के अनुसार भालू, बंदर, बाघ, तेंदुए, शेर और बैल को मनोरंजन के लिए ट्रेन करना और इस्तेमाल करना गैरकानूनी है।

– पंछी के अंडों को नष्ट करना या उनसे छेड़छाड़ करना या फिर उनके घोसले को तोड़ना अपराध है। इसके लिए दोषी को सात वर्ष की ज़ेल या 25 हजार रुपए का जुर्माना या दोनों हो सकते हैं।

Share.