तालिबान ने किया संघर्ष विराम का उल्लंघन

0

अफगानिस्तान में करीब सप्ताहभर चली लड़ाई के बाद राष्ट्रपति द्वारा अस्थायी संघर्षविराम का ऐलान किया गया था, लेकिन तालिबान ने इसे नहीं स्वीकारा। अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तालिबान के साथ हालिया संघर्ष के बाद आज तीन महीने के अस्थायी संघर्ष विराम का ऐलान किया, लेकिन चेताया भी कि यह एकतरफा नहीं है और तालिबान इसका पालन करेगा तो ही संघर्षविराम अमल में लाया जाएगा। राष्ट्रपति द्वारा की गई संघर्ष विराम की घोषणा के ठीक एक दिन बाद सोमवार को आतंकी संगठन तालिबान ने 100 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया, जिसमे महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं।

अफगान अधिकारियों द्वारा प्रेस को दी गई जानकारी के अनुसार यह घटना उत्तरी अफगानिस्तान की है।  तालिबान द्वारा गजनी प्रांत की राजधानी पर हमला किया और अफगानिस्तान में लगभग सप्ताहभर चली लड़ाई के बाद अफगानिस्तान में सप्ताहभर चली लड़ाई के बाद एक दिन पहले ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने तीन महीने के संघर्ष विराम का ऐलान किया था। साथ ही उन्होंने कहा था “इसका पालन तालिबान को भी करना होगा”

टीवी पर संबोधन के दौरान भी गनी ने कहा, “मैं एक बार फिर कल (सोमवार) से पैगंबर के जन्मदिन तक संघर्ष विराम का ऐलान करता हूं बशर्ते इसका पालन तालिबान को भी करना होगा। ” साथ ही उन्होंने कहा कि हम तालिबान नेतृत्व से अपील करते हैं कि स्थायी और वास्तविक शांति के लिए अफगानों की इच्छा का स्वागत करें।  हम उनसे गुजारिश करते हैं कि इस्लामी मूल्यों और सिद्धांतों पर आधारित शांति वार्ता के लिए तैयार हों।

नाटो के महासचिव जेन्स स्टोलटेंबर्ग ने भी इसका स्वागत करते हुए ट्वीट किया, “मैं तालिबान को प्रोत्साहित करता हूं कि वह इसका सम्मान करके अफगानों के प्रति अपनी चिंता का प्रदर्शन करें। ”

अफगानिस्तान में 21 नवंबर को ईद मिलादुन्नबी मनाई जाएगी।

Share.