website counter widget

गुरुनानक देव के महल पर हमला, की तोड़फोड़   

0

हाल ही में सिख धर्मावलम्बियों की भावनाओं को आहत किए जाने का मामला सामने आया है| इस कारण दुनियाभर के सिख धर्म को मानने वाले लोग आक्रोशित हैं | दरअसल, सिख धर्म के सबसे पहले धर्मगुरु गुरुनानक देव का जन्म पाकिस्तान के तलवंडी में हुआ था | अब पाकिस्तान से खबर आ रही है कि वहां स्थित ऐतिहासिक गुरुनानक महल (Pakistan Guru Nanak Mahal Demolished) के कुछ हिस्सों को शरारती तत्वों ने तोड़ दिया है|

Indian Cabinet Ministers List 2019 : अमित शाह को मिला गृह मंत्रालय, देखें मोदी के नए केंद्रीय मंत्रियों की सूची!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के लाहौर से सौ किलोमीटर दूर स्थित पंजाब प्रांत के नारौवल शहर के ऐतिहासिक गुरुनानक महल में लगे काफी महंगे बताए जा रहे खिड़की और दरवाजों को कुछ आपराधिक तत्वों ने तोड़ (Pakistan Guru Nanak Mahal Demolished) दिया था, जिन्हें बाद में बेच दिया गया|

प्राप्त जानकारी के अनुसार, बाबा गुरुनानक महल (Pakistan Guru Nanak Mahal Demolished) चार सौ साल पहले बनाया गया था| यहां लाखों की संख्या में भारत और विदेश से सिख तीर्थ यात्री आते हैं |यह पूरे विश्व के खासकर भारत के सिख धर्मावलम्बियों की आस्था का केंद्र है| दरअसल, यह ऐतिहासिक गुरुनानक महल एक चार मंजिला बिल्डिंग है, जिसकी दीवारों पर सिख धर्म के संस्थापक गुरुनानक की तस्वीरें बनी है|

युवती के पेट से निकले कोकीन के 65 कैप्‍सूल, फिर..

मुख्यतौर पर यह महल लाहौर से सौ किलोमीटर दूर नारौवल शहर में है| इसमें कुल मिलाकर 16 कमरे हैं और हर कमरे में तीन-तीन दरवाजे लगे हैं| इसके अलावा हर कमरे में कम से कम चार रोशनदान भी हैं|

वर्तमान में किसका मालिकाना हक, पता नहीं

यहां महल (Pakistan Guru Nanak Mahal Demolished) के नजदीक एक गांव के रहने वाले मोहम्मद असलम ने बताया, “उनकी कई पीढ़ियां यह महल देखती आ रही है| वहां के जो भी निवासी हैं, वे लोग इसे ‘महलान’ कहते हैं|” उन्होंने कहा, ”कुछ साल पहले यहां कनाडा से एक शिष्टमंडल आया था, जिसमें एक महिला भी थी| वे सब यहां आकर काफी खुश हुए थे|” इस महल पर किसका मालिकाना हक है और (Siege of Gurunanak Dev’s castle)  इसकी देखभाल की जिम्मेदारी किसकी है इसको लेकर तस्वीर साफ नहीं है|

नेपाल की राजधानी काठमांडू में 3 धमाके, कई मरे

बता दें कि इन दिनों करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण हो रहा है| इसका मकसद है कि सिख श्रद्धालुओं के लिए गुरुनानक देव की पवित्र धरती तक पहुंच और आवाजाही आसान हो जाए| भारत में इसका उद्घाटन 26 नवम्बर को उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने किया था| एक ओर इस तरह की पहल की जा रही है वहीं दूसरी ओर उनकी धरोहर का भी संरक्षण नहीं किया जा रहा है|(Siege of Gurunanak Dev’s castle)

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.