website counter widget

UN ने माना पत्रकार खशोगी की हत्या में सऊदी अरब का हाथ

0

पत्रकार जमाल खशोगी (Journalist Jamal Khashoggi) की हत्या (murder) के मामले में एक बड़ा खुलासा सामने आया है। संयुक्त राष्ट्र (United Nation) के स्वतंत्र विशेषज्ञ (independent specialist) ने यह दावा किया है कि, अक्टूबर 2018 में हुई पत्रकार की हत्या से सऊदी अरब के युवराज का सीधा ताल्लुक है। खशोगी की हत्या इस्तांबुल (Istanbul) स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास (Saudi Consulate) में की गई थी।

संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञ ने यह भी दावा किया है कि कुछ ऐसे सबूत (evidence) हाथ लगे हैं जो पत्रकार की मृत्यु को सऊदी क्राउन प्रिंस (Saudi Crown Prince) से जोड़ते हैं।  इस खुलासे से पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के लिए अब अंतरराष्ट्रीय जाँच (International enquiry) का प्रस्ताव रखा गया है। खशोगी की हत्या के ठीक बाद सऊदी में मीडिया संस्थानों (media institute) द्वारा प्रेस की स्वतंत्रता (freedom of press) खतरे में होने की बातें उठी। मीडिया संस्थानों के अलावा मानव अधिकार आयोग (Human right commission) द्वारा भी इस हत्या की निंदा की गई।

विदेशों द्वारा निंदा

अमरीकी राष्ट्रपति (American President) डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) ने इस मामले में सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (Central Intelligence Agency) से हुई जांच पर प्रश्न उठाये थे। अमरीका के अलावा और भी देशों ने इसकी निंदा की थी। सीआईए (CIA)  का कहना है कि पत्रकार खशोगी की हत्या का आदेश सऊदी राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान (Saudi prince Mohammed bin Salman) के द्वारा दिए गए थे, जिसके सीआईए ने सबूत के साथ पुष्टि की है।

कौन थे जमाल खगोशी??

जमाल अहमद खशोगी वाशिंगटन पोस्ट (Washington Post)  के लिए एक सऊदी लेखक (author) , स्तंभकार (columnist)  और अल-अरब न्यूज़ चैनल के एक महाप्रबंधक और प्रधान संपादक (Chief-editor) थे।  उन्होंने सऊदी अखबार अल-वतन के लिए संपादक के रूप में भी काम किया। खगोशी ने  सऊदी अरब के राजकुमार सलमान और उनके बेटे मोहम्मद बिन सलमान के खिलाफ भी कई लेख लिखे थे।

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.