भारतीय मुस्लिमों को सऊदी प्रिंस का तोहफा

0

भारत एक ऐसा देश है जहां मुस्लिम बंधुओं की संख्या कई मुस्लिम देशों की आबादी से भी ज़्यादा हैं। हर साल भारत से मक्का (Makkah)  के लिए लाखों की संख्या में लोग हज (Haj) यात्रा पर जाते हैं। यह कहना गलत नहीं होगा कि दुनिया भर से जाने वाले सभी हज यात्रियों में से सबसे ज़्यादा मुस्लिम भारत से ही जाते हैं। हाल ही में हुए G – 20 समिट (G-20 Summit)  में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है। दरअसल, G -20 समिट में सऊदी अरब (Saudi Arab) की तरफ से भारत के मुस्लिमों के लिए एक तोहफा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और सऊदी अरब (Saudi Arabia boosts Haj quota to 2 lakh) के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (Saudi Arab Crown Prince Mohammad Bin Salman) के बीच हुई द्विपक्षीय वार्ता (bilateral talks) में भारत से मक्का जाने वाले मुस्लिमों की संख्या बढ़ाई गई है।

 

हिन्दुस्तान की गोल्ड मेडलिस्ट का दुबई में कत्ल

कितना बढ़ा हज कोटा

भारतीयों के लिए सऊदी अरब से हज कोटा अब 2 लाख कर दिया गया है। यह कोटा पिछली संख्या से तकरीबन 30,000 ज़्यादा है। इससे पहले भारत से 1 लाख 70 हज़ार यात्री (Saudi Arabia boosts Haj quota to 2 lakh) हर साल हज यात्रा पर जाते थे। इस फैसले से अब हर साल लगभग 30 हजार और भारतीय मुस्लिमों के मक्का जाने की ख्वाइश पूरी हो सकेगी।

1 जुलाई से होगी नई ट्रेनों की शुरुआत और समय में परिवर्तन

 

काउंटर टेररिज्म एहम मुद्दा

G-20 सम्मेलन जापान के ओसका (Osaka) में शुक्रवार को सम्पन्न हुआ। सम्मलेन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई विषयों में वार्तालाप की, जिसमें एक एहम मुद्दा आतंकवाद (terrorism) को ख़त्म करना रहा।  G-20 सम्मलेन में शामिल सभी देशों से प्रधानमंत्री मोदी ने यह अपील की एक जुट होकर (Saudi Arabia boosts Haj quota to 2 lakh)  आतंकवाद ख़त्म करने में सहयोग दें। इसके अलावा देशों के बीच ऊर्जा संरक्षण (energy conservation), व्यापार (business) और निवेश (investment) के बारे में भी चर्चाएं हुईं।

Video : जब मंत्री ही नियमों का उल्लंघन करें तो क्या कहेंगे !

 

पर्यावरण के अनुरूप सम्मेलन

जापान की राजधानी टोक्यो (Tokyo) से करीब 500 किमी दूर यह (Saudi Arabia boosts Haj quota to 2 lakh) सम्मेलन कड़ी सुरक्षा के बीच हुआ। जापान ने पर्यावरण का विशेष ध्यान रखते हुए इसे सम्पन्न किया है। फिलहाल ओसाका खाड़ी (Osaka) में जहां शिखर सम्मेलन हो रहा है, वहां यात्रा और परिवहन पूरी तरह से प्रतिबंधित किए गए हैं।

 

Share.