इन देशों में दुष्कर्म की सज़ा के बारे में सुनकर रूह कांप उठेगी

0

जम्मू-कश्मीर के कठुआ ( kathua rape case ) में 8 साल की बच्ची से दरिंदगी और हत्या के मामले में लगभग डेढ़ साल बाद तीन आरोपियों को आजीवन कारावास और तीन को महज पांच वर्ष का कारावास दिया गया है। हमारे देश का यही हाल है (Punishment For Rape Victim In Different Countries)। आज तक हमारा कानून निर्भया ( Nirbhaya Rape Case) मामले के आरोपियों को तो फांसी पर लटका नहीं पाया।

Kerala Palakkad Road Accident : हादसे में बचे 8 लोगों को ले जा रही एंबुलेंस पलटी, सभी की मौत

हमारे देश में दुष्कर्म के मामलों में तेजी से वृद्धि हो रही हैं और सज़ा के नाम पर केवल कागजों पर मोहर लगाईं जा रही है वो भी लंबे समय बाद! निर्भया मामले के बाद न जाने कितने ही दरिंदों को फांसी की सज़ा सूना दी गई है, लेकिन आज तक सूली पर लटकाया किसी को भी नहीं। यदि कानून इन वहशियों को सज़ा नहीं दे पा रहा है, फांसी पर नहीं लटका पा रहा है , तो सज़ा देने के कई और तरीके भी है, जो दुनिया के कई देशों में अपनाएं जाते हैं।

Dumka Gangrape : दुमका सामूहिक दुष्कर्म मामले में 11 को उम्रकैद

https://youtu.be/sFlZj81hi4E

इन देशों में दुष्कर्म की सज़ा के बारे में सुनकर रूह कांप उठेगी (Punishment For Rape Victim In Different Countries)

भारत को छोड़कर कई ऐसे देश भी हैं जहां दुष्कर्मियों को बक्शा नहीं जाता। बलात्‍कार के दोषियों को 24 घंटों के अंदर-अंदर सजा ए मौत दे दी जाती है। कहीं उनके शरीर को नोच लिया जाता है तो कहीं जानवर के सामने दाल दिया जाता है।

उत्तर कोरिया में सिर में मार दी जाती है गोली

उत्तर कोरिया की तानाशाही के बारे में हम सब जानते हैं। वहां अपराधियों के लिए कोई दया नहीं है। रेप के लिए केवल एक ही सजा है और वो है मौत। यहां दुष्कर्मी दरिंदे को सरेआम सिर में कई गोलियां दागी जाती हैं।

एक हफ्ते के अंदर दी जाती है फांसी

संयुक्त अरब अमीरत में भी इस मामले पर सख्त सज़ा का प्रवधान है। यूएई के कानून के मुताबित यदि किसी ने ऐसा अपराध किया है तो उसे सात दिनों के अंदर ही फांसी दे दी जाती है।

काट दिया जाता है प्राइवेट पार्ट

सऊदी अरब में इस्लामिक कानून शरिया कानून के अनुसार सज़ा दी जाती है। यहाँ दी जाने वाली सज़ा के बारे में सुनकर रूह काँप उठेगी। इस देश में किसी भी अपराध के लिए मौत की सजा का ही प्रावधान है। अगर कोई भी शख्स रेप का दोषी पाया जाता है तो अपराधी को फांसी पर टांगने, सिर कलम करने के साथ-साथ उसके प्राइवेट पार्ट को काट दिया जाता है।

हिंदू लड़की को जबरन शराब पिलाकर किया गैंगरेप

पत्‍थरों से मार-मार कर हत्‍या

इराक में दुष्कर्मियों को दी जाने वाली सज़ा जैसा प्रावधान काश हमारे भारत में भी लागू किया जाए। वहां सजा देने का तरीका थोड़ा अलग होता है। आरोपियों को तब तक पत्थर मारे जाते हैं, जब तक की वो मर ना जाए।

फेंक दिया जाता है सुअरों के सामने

पोलैंड में बलात्‍कार के आरोपी को सुअरों से कटवाया जाता था, लेकिन अब उन्हें नपुंसक बना दिया जाता है।

मेडिकल जांच की पुष्टि के बाद सीधे मौत

चीन में मेडिकल जांच की पुष्टि के बाद आरोपियों को सीधे मौत दे दी जाती है।

हमारे देश में इनमें से कोई भी सज़ा नहीं दी जाती है और न ही ऐसा विचार किया जा रहा है। यहां तो फांसी की सज़ा सुनाने के बाद भी वर्षों बीत जाते हैं, लेकिन सज़ा नहीं दी जाती है। देश में तेजी से बढ़ रहे इन अपराधों के लिए हमारे कानून को भी सख्त करना होगा। दुष्कर्म के आरोपी के लिए उम्रकैद क्या काफी है ? उन्हें तो चौराहे पर लटका के पत्थर मारने चाहिए, भूखे शेर के सामने दाल देना चाहिए, लेकिन हम अभी तक दरिदों को फांसी तक नहीं दे पा रहे हैं।

Share.