भारतीय सेना के साथ अभ्यास का प्रस्ताव

0

डोकलाम मामले में चल रहे विवादों के बाद चीन ने अपने तेवर में नरमी दिखाते हुए भारतीय सेना के साथ अभ्यास का प्रस्ताव दिया है| चीन और भारत के बीच कई मुद्दों को लेकर विवाद की स्थिति बन रही है, जिसके बाद यह प्रस्ताव चौंकाने वाला है| दरअसल 2017 में इस सैन्य अभ्यास को चीन ने डोकलाम विवाद के ठीक पहले बिना कारण बताए स्थगित कर दिया था|

बता दें कि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण अगले सप्ताह पेइचिंग के दौरे पर जाएंगी| डिफेंस मिनिस्टर निर्मला सीतारमण के दौरे से पहले चीन का यह स्टैंड उसके रवैये में बदलाव का संकेत देता है| चीन ने अपने औपचारिक प्रस्ताव में कहा है कि दोनों देश इस साल के अंत तक कई साझा सैन्य अभ्यास कर सकते हैं| 24 अप्रैल को शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन में हिस्सा लेने के लिए सीतारमन पेइचिंग में होंगी| इस संबंध में उनकी चीनी डिफेंस मिनिस्टर वेइ फेंघे से भी बातचीत हो सकती है|

भारत ने चीन के साथ 2017 में सैन्य अभ्यास का प्रस्ताव दिया था, जिस पर चीन ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी| इसके चलते अभ्यास का समय तय करने वाले सचिव स्तर की वार्ता तय नहीं हो सकी और जून 2017 तक डोकलाम में चीनी सेना उतर गई थी| इसके बाद डोकलाम में दोनों देशों की सेनाएं करीब 70 दिन तक आमने-सामने डटी रहीं, जिससे तनाव की स्थिति पैदा हो गई थी|

Share.