पीएम मोदी- इमरान का आमना-सामना

0

लगातार दूसरी बार सत्ता में आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 30 मई को प्रधानमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। शपथ के बाद पीएम मोदी अपने दूसरे कार्यकाल के पहले विदेश दौरे की  तैयारियों में लगे हैं। सूत्रों के मुताबिक, इस दौरे में पीएम मोदी और पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान का आमना-सामना होगा। दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने विदेश दौरे के लिए 13 जून को किर्गिस्‍तान की राजधानी बिशकेक के लिए रवाना होंगे। प्रधानमंत्री का यह विदेश दौरा शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) में होने वाले 2 दिवसीय शिखर सम्‍मेलन के लिए होगा।

जानिये कैसे मुस्लिमों ने रचा 2019 चुनावों का इतिहास

क्‍या इमरान से होगी मुलाकात?

सूत्रों के मुताबिक जो कार्यक्रम पहले से तय हो गए हैं, उनमें से एससीओ शिखर सम्‍मेलन एक है। इस बार SCO का शिखर सम्मलेन एक और वजह से खास हो गया है। बताया जा रहा है कि सम्मलेन में पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री इमरान भी यहां पहुंचेंगे। दोनों देशों यानि भारत और पाकिस्तान में  पिछले कुछ माह से जारी तनाव और इमरान के पीएम बनने के बाद यह पहला मौका होगा जब दोनों नेता एक-दूसरे से टकराएंगे। कुछ समय पहले हुई शिखर वार्ता में विदेश मंत्री सुषमा स्‍वराज हिस्‍सा लेकर लौटी हैं। सम्मेलन में सुषमा और उनके पाक समकक्ष शाह महमूद कुरैशी एक ही मंच पर आए, लेकिन दोनों के बीच कोई बात नहीं हुई।

जीत गई गांधी के हत्यारे की विचारधारा!

चार वर्षों से वार्ता बंद

दोनों देशों के बीच पिछले 4 वर्षों से वार्ता बंद है। सूत्रों के मुताबिक, पीएम मोदी और इमरान के बीच कोई वार्ता नहीं होगी। दोनों नेता बस मुस्‍कुराकर एक-दूसरे का अभिवादन करते हुए नज़र आ सकते हैं। चुनावी नतीजों के बाद भाजपा की ऐतिहासिक जीत पर इमरान ने प्रधानमंत्री मोदी को ट्विटर के ज़रिए जीत की बधाई दी थी। मोदी ने भी सहर्ष स्वीकारा। मोदी ने इमरान को शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि दक्षिण एशिया में शांति और विकास हमेशा से उनकी प्राथमिकता रही है। भारत और पाकिस्‍तान के बीच पिछले चार वर्षों से वार्ता बंद है।

राहुल की हार पर सिद्धू का इस्तीफा

भारत का आतंकवाद पर शिकंजा 

प्रधानमंत्री का यह दौरा और भी खास इसलिए है क्योंकि अजहर की ब्‍लैकलिस्टिंग के बाद यह जिनपिंग से पहली मीटिंग होगी । इस सम्मलेन में चीन भी हिस्‍सा लेगा। बता दें, पिछले वर्ष किंगदाओ में हुए एससीओ समिट के समय शी जिनपिंग और मोदी के बीच द्विपक्षीय वार्ता हुई थी। यह मीटिंग खास इसलिए होगी क्योंकि जैश-ए-मोहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर के ब्‍लैकलिस्‍ट होने के बाद दोनों देश के नेता पहली बार मिलेंगे।

Share.