website counter widget

FATF के फैसले के बाद पाई-पाई को मोहताज पाकिस्तान

0

भारत में हुए पुलवामा हमले (2019 Pulwama attack) के बाद पाकिस्तान (Pakistan)  से कई देशों ने रिश्ता तोड़ लिया। जहाँ भारत ने पाकिस्तान जाने वाले सामान पर 200 प्रतिशत का कर लगा लिया, वहीँ कई अन्य देश, जो उसे आर्थिक सहायता दे रहे थे, उन्होंने भी अपने हाथ पीछे खिंच लिए। इसके बाद से ही पाकिस्तान की आर्थिक हालत चिंताजनक थी, लेकिन आज के बाद पाक पूरी तरह से कंगाल हो जाएगा। अमेरिका में चल रही FATF यानी फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) की बैठक समाप्त हो चुकी है और आज रात यह संगठन घोषणा करेगा कि क्या पाकिस्तान ने टेरर फाइनेंसिंग को रोकने के लिए कदम उपयुक्त उठाए हैं या नहीं।

अब ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बनेंगी पनडुब्बियां

जानकारी के अनुसार, पिछले साल इस संगठन ने पाकिस्तान को “ग्रे लिस्ट” की सूची में शामिल किया था, जिससे पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था को हर साल करीब 10 बिलियन डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है। इस फैसले के बाद देश में हाहाकार मचा हुआ है, क्योंकि अब अमेरिका ने फैसला सुनाया है कि IMF पाकिस्तान को सशर्त पैसे दें। अमेरिका ने पाकिस्तान के मामले पर सख्त रुख अपना लिया है। ऐसा इसीलिए किया जा रहा है, क्योंकि अमेरिका के स्टेट डिपार्टमेंट के अधिकारियों ने आशंका व्यक्त की है कि पाकिस्तान इस फंड का चीन से लिए गए कर्ज को अदा करने में इस्तेमाल करेगा।

भोपाल में इंसानियत फिर हुई शर्मसार

कुछ समय पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने संबोधन में कहा था कि 10 साल में पाकिस्तान का कर्ज़ 6000 अरब पाकिस्तानी रुपए से बढ़कर 30 हज़ार अरब पाकिस्तानी रुपए तक पहुंच गया है। इससे देश के पास अमेरिकी डॉलर की कमी हो गई। हमारे पास इतने डॉलर नहीं बचे कि हम अपने कर्ज़ों की किस्त चुका सकें। मुझे डर हैं कि कहीं पाकिस्तान डिफॉल्टर ना हो जाए। जब पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट किया गया इसके बाद अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस जैसे दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों में भी एक प्रस्ताव पेश कर जून 2018 में पाकिस्तान के FATF के ग्रे लिस्ट में डाल दिया था।

राहुल गांधी पर कसा तंज, योग से दूर होता है बचपन…

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.