website counter widget

पाकिस्तान के कारण नहीं सुलझ पा रहा कश्मीर मसला

0

वॉशिंटगन: कश्मीर मामले (Kashmir Issue) को लेकर पाकिस्तान ने कई बार अंतर्राष्ट्रीय मंचों से मध्यस्थता की गुहार लगाईं है। और इस पर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) ने भी कई बार कहा है. की अगर भारत पाकिस्तान चाहे तो वह कश्मीर मामले में मध्यस्थता के लिए तैयार है लेकिन भारत ने हर बार मध्यस्थता से इंकार किया है। भारत ने कहा था की यह द्विपक्षीय मसला है इस पर किसी अन्य देश के दखल की बिलकुल जरुरत नहीं है इसे हम अपने स्तर से सुलझायेग। कश्मीर मामले में बढ़ते तनाव को देखकर अमेरिका की तरफ से अब कहा गया है की कश्मीर मसला न सुलझने की मुख्य वजह पाकिस्तान खुद है। पाकिस्तान (Pakistan Support For Terror Groups) लगातार सीमापार आतंकवाद में लिप्त है और आतंकियों की मदद कर रहा है. और आये दिन जम्मू कश्मीर की सीमा पर पाकिस्तानी आतंकियों के द्वारा गोलाबारी की जाती है जिससे मामला सुलझने की जगह और बिगड़ता जा रहा है।

मांसाहारी गाय को शाकाहारी बनाएगी सरकार

जानकारी के अनुसार अमेरिका ने कहा है की दोनों देशों को शिमला समझौते (Shimla Agreement) के तहत इसका समाधान तलाशना चाहिए. दक्षिण और मध्य एशिया विभाग की कार्यकारी सहायक सचिव एलिस जी वेल्स ने एशिया पेसिफिक की उप-समिति से ये बातें कही. उन्होंने कहा, ‘हम कश्मीर समस्या पर भारत-पाकिस्तान (Pakistan Support For Terror Groups) के बीच सीधी वार्ता का समर्थन करते हैं. 1972 में हुए शिमला समझौते में भी इसका जिक्र है. शिमला समझौते में आपसी सहमति से शांतिपूर्ण वार्ता की बात कही गई है.’

आपके भी हैं 2 से ज्यादा बच्चे तो नहीं मलेगी सरकारी नौकरी

एलिस जी वेल्स ने कहा कि साल 2006-2007 के दौरान भारत-पाकिस्तान ने कश्मीर समेत कई मसलों को सुलझाने में काफी हद तक सफलता पाई है। उन्होंने कहा, ‘इतिहास कहता है कि सीधी वार्ता से कई समस्याओं का समाधान किया गया है। उम्मीद है कि कश्मीर पर भी ऐसा ही हो।’

इस बार तोप टैंक नहीं चलेंगे, परमाणु युद्ध होगा

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
[yottie id="3"]
Share.