website counter widget

पाक पीएम इमरान का क्रिकेट के बाद कर्ज में नया रिकॉर्ड

0

इस्लामाबाद: कश्मीर मुद्दे पर दुनियाभर से अलग-थलग पड़े पाकिस्तान(Pakistan) की वर्तमान हालात बहुत ही जर्जर है। भारी आर्थिक संकट (Economic recession)  से गुजर रहा पाकिस्तान की जनता के पास अनाज खरीदने तक के पैसे नहीं है। इन सब आफत के बीच पकिस्तान ने एक और शर्मनाक रिकॉर्ड कायम किया है। जानकारी के अनुसार इमरान सरकार ने अपने एक साल के कार्यकाल में रिकार्ड कर्जा लिया है (Imran Khan’s Govt Borrows Rs 7.5 Lakh Crore). आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार सरकार के एक साल के कार्यकाल में देश के कुल कर्ज में 7509 अरब (पाकिस्तानी) रुपये की वृद्धि हुई है. एक रिपोर्ट के अनुसार कर्ज के यह आंकड़े स्टेट बैंक आफ पाकिस्तान ने प्रधानमंत्री कार्यालय को भिजवा दिए हैं.

पूर्व सीएम शिवराज के घोटालों का राज, कैग रिपोर्ट का खुलासा

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान(State Bank of Pakistan) के अनुसार अगस्त 2018 से अगस्त 2019 के बीच पाकिस्तान ने 2804 अरब रुपये का कर्ज लिया है, जबकि घरेलू बैंकों से 4705 अरब रुपये का कर्ज लिया गया है.स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के आंकड़ों के मुताबिक, मौजूदा वित्तीय वर्ष के पहले दो महीनों में पाकिस्तान के सार्वजनिक कर्ज में 1.43 फीसदी का इजाफा हुआ है. फेडरेल सरकार का यह कर्ज बढ़कर 32,240 अरब रुपए हो गया है. अगस्त 2018 में यह कर्ज 24,732 अरब रुपए था.

उत्तरप्रदेश का रहने वाला अल-कायदा का प्रमुख!

पाकिस्तान की जीडीपी पहले ही गर्त में जा रही है और वर्ल्ड बैंक से लेकर IMF के द्वारा उसका लिया हुआ कर्ज बढ़ता ही जा रहा है. इसके अलावा पाकिस्तान पर सबसे ज्यादा कर्ज चीन का बढ़ रहा है (Imran Khan’s Govt Borrows Rs 7.5 Lakh Crore). दिनों दिन डॉलर के मुकाबले कमजोर होते पाकिस्‍तानी रुपये का ही नतीजा है कि मार्च में पाकिस्‍तान में महंगाई दर पिछले पांच साल के शीर्ष स्‍तर 9.41 फीसदी पर पहुंच गई थी. अप्रैल में यह 8.8 फीसदी दर्ज की गई. पाकिस्तानी रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अब तक के निचले स्तर पर आ गया है. एक अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 152 के स्तर पर पहुंच गया है.

कश्मीरियों को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.