पाकिस्तान में इमरान खान का बहिष्कार

0

जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) के मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर उठाने वाले और बार-बार भारत के खिलाफ अन्य देशों को भड़काने वाले पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistani Prime Minister Imran Khan) को अब उनके ही देश में विरोध का सामना करना पड़ रहा है। पाकिस्तान (Pakistan) के लोग अब इमरान खान का ही बहिष्कार कर रहे हैं। पाकिस्तानियों का कहना है कि इमरान खान पाकिस्तान के लिए खतरा बन रहे हैं, उनके सारे विदेश दौरे बंद कर दिये जाने चाहिए।

पीएम मोदी ईरान के राष्ट्रपति रूहानी से मिले

पाकिस्तान का बना मज़ाक

कश्मीर (Kashmir) मुद्दे पर हर जगह उन्हें मुंह की खाने के बाद अब इमरान का उनके ही मुल्क में अनादर हो रहा है। अब उनके विदेशी दौरे पर रोक लागने  वाली है। पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के सेनेटर मुस्तफा नवाज़ खोखर ने इमरान का कहना है कि इमरान खान (Pakistan PM Imran Khan) दुनिया में पाकिस्तान का पक्ष रखने की बजाय अपने मुल्क के खिलाफ ही बोल रहे हैं, जिसकी वजह से भारतीय मीडिया में पाकिस्तान का मज़ाक उड़ रहा है।

हो गया शिवसेना और बीजेपी के बीच सीटों का बंटवारा!

क्यो हो रहा विरोध

पाकिस्तान में इमरान खान के विरोध के पीछे भी बड़ा कारण है। वे जम्मू-कश्मीर के मसले पर हर मंच पर कूटनीतिक हार हो या फिर आतंकवाद के मसले पर खुली पोल है। वे हमेशा पाकिस्तान की पोल खोलते है। इसके पहले न्यूयॉर्क में इमरान खान ने कहा था कि अमेरिका के कहने पर पाकिस्तानी सेना और आईएसआई ने अलकायदा के आतंकवादियों को ट्रेनिंग दी थी, लेकिन जब काम खत्म हुआ तो अमेरिका वहां से चला गया, जिसके बाद पाकिस्तान को काफी कुछ भुगतना पड़ा। 1989 में जब सोवियत ने अफगानिस्तान छोड़ दिया। बाद में अमेरिका ने साथ छोड़ दिया, लेकिन ये आतंकी संगठन पाकिस्तान में ही रहे। फिर जब न्यूयॉर्क में  9/11 अटैक हुआ और एक बार फिर पाकिस्तान अमेरिका के साथ आया। यही कारण है कि हमें बार-बार झटका लगता रहा।

संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री मोदी का भाषण आज

क्या अमेरिका को आतंकियों से लड़ने के लिए 100% प्रयास नहीं करना चाहिए? इसके जवाब में इमरान खान ने कहा था कि अफगानिस्तान के मसले का कभी भी मिलिट्री हल नहीं निकाला जा सकता। मैंने यह बात ओबामा प्रशासन से 2008 में कही थी, लेकिन उन्होंने इस पर विश्वास नहीं किया। अफगान हमेशा बाहरी सेनाओं के खिलाफ संगठित रहे हैं। पाकिस्तान में लाखों अफगान रिफ्यूजी रह रहे हैं।

    – Ranjita Pathare

Share.