website counter widget

Pok में आजादी की मांग कर रहे प्रदर्शनकारी, आपातकाल लागू

0

मुजफ्फराबाद: पाकिस्तान(Pakistan) अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कश्मीर में मानवाधिकारों को लेकर खूब राग अलापता है लेकिन वह अपने क्षेत्र के आजाद कश्मीर के लोगों के बारे में बात नहीं करता है. पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) में आजादी की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ स्थानीय पुलिस ने बर्बरता दिखाई थी। और लाठीचार्ज के साथ-साथ वहां पर काफी तोड़फोड़ भी की जिसमें 2 लोग मारे गए थे।

जानकारी के अनुसार अब पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर (Pok) में आजादी को लेकर लगातार चल रहे प्रदर्शन पर लगाम लगाने के लिए पाकिस्‍तानी सेना ने अब मुजफ्फराबाद में आपातकाल लगा दिया है. पाकिस्‍तानी सेना ने वहां के प्रेस क्‍लब में आंसू गैस के गोले छोड़े. इसमें कई पत्रकार घायल हो गए. साथ ही मुजफ्फराबाद के कई नेताओं को पाकिस्तान द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। PoK के दमन में पाकिस्तान पूरी तरह से उतारू हो गया है।

 

आपको बता दे 1947 में 22 अक्टूबर को पाकिस्तानी सेना ने जबरन इस क्षेत्र को अपने कब्जे में ले लिया था और तब से 22 अक्टूबर को यहां पर ‘काला दिवस’ मनाया जाता है. इस दिन को पीओके और गिलगित बाल्टिस्तान के लोग काला दिवस के रूप में मनाते हैं क्योंकि वे पाकिस्तान से अपना क्षेत्र छोड़ने की मांग करते हैं.

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.