website counter widget

पाक न्यायालय में मुशर्रफ, मुजरिम करार!

0

इस्‍लामाबाद: पाकिस्‍तान(Pakistan) की एक विशेष अदालत ने पूर्व सैनिक तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ (Pervez Musharraf) के खिलाफ चल रहे राजद्रोह के मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया गया है। अदालत आने वाले 28 नवंबर को इस मामले में अपना फैसला सुनाएगी। पाकिस्‍तान की पीएमएल-एन सरकार (Pakistan Muslim League-Nawaz, PML-N) ने 76 वर्षीय पूर्व सेना प्रमुख के खिलाफ साल 2013 में यह मामला दर्ज किया था। मुशर्रफ पर नवंबर 2007 में अतिरिक्‍त संवैधानिक आपातकाल लागू करने के आरोप हैं।

शरद पवार और मोदी की मुलाकात से क्या महाराष्ट्र में बनेगी पवारफूल सरकार

जस्टिस वकार अहमद सेठ की अध्‍यक्षता वाली तीन सदस्‍यीय ट्रिब्‍यूनल ने इस मामले में सुनवाई की। अदालत ने फैसला सुरक्षित रखते हुए मुशर्रफ के वकील को 26 नवंबर तक अंतिम दलीलें पेश करने का भी निर्देश दिया। एक जानकारी के अनुसार यद‍ि मुशर्रफ को इस मामले में गुनाहगार पाया गया तो उन्‍हें फांसी की सजा हो सकती है। मुशर्रफ (Pervez Musharraf) पाकिस्‍तान के पहले सेना प्रमुख हैं जिनपर 31 मार्च 2014 को देशद्रोह के मामले में आरोप तय किए गए थे।

अमेजन,फ्लिपकार्ट के खिलाफ 700 से अधिक शहरों में भारी विरोध प्रदर्शन

लेकिन मुशर्रफ (Pervez Musharraf) लगाए गए सभी आरोपों को राजनीति से प्रेरित बता चुके हैं। जानकारी के अनुसार साल 2016 में मुशर्रफ के दुबई भाग जाने के बाद इस चर्चित हाई प्रोफाइल मामले की सुनवाई नरम पड़ गई थी। मुशर्रफ ने मेडिकल ट्रीटमेंट का हवाला देते हुए मार्च 2016 में पाकिस्‍तान छोड़ दिया था। हालांकि उस समय उन्‍होंने वापस लौटने की भी बात कही थी। सुप्रीम कोर्ट द्वारा उनका नाम एक्जिट कंट्रोल लिस्‍ट से हटाए जाने के बाद वह विदेश जाने में कामयाब हो गए थे। हालांकि, इसके कुछ ही महीने बाद पाकिस्‍तान की विशेष अदालत ने उन्‍हें भगोड़ा घोषित कर दिया था। तीन सदस्यीय पीठ की अगुवाई कर रहे न्यायमूर्ति वकार अहमद सेठ ने पूछा कि मुशर्रफ के वकील कहां हैं। अदालत के एक विशेष रजिस्ट्रार ने उन्हें बताया कि वकील उमरा करने गए हैं। इसके बाद, न्यायमूर्ति सेठ ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति के वकील को मंगलवार (19 नवंबर) को अपनी दलीलें पेश करने का तीसरा मौका दिया गया था। सुनवाई थोड़े समय के लिए स्थगित कर दी गई, जिसके बाद अदालत ने कहा कि मामले में फैसला 28 नवंबर को सुनाया जाएगा।

40 लाख दिल्लीवासियों के लिए मोदी का ऐतिहासिक ऐलान

-Mradul tripathi

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.