300 से अधिक लोगों को मौत की सजा    

1

इराक की अदालतों ने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) से संबंध रखने पर कई विदेशियों सहित 300 से अधिक लोगों को मौत की सजा सुना दी है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार संदिग्धों पर उत्तरी इराक के मोसुल में और बगदाद की अदालतों में मुकदमे चले हैं।

97 नागरिकों को मृत्युदंड

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जनवरी से लेकर अब तक 97 नागरिकों को मृत्युदंड की सजा और 185 को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। जिन महिलाओं को सजा सुनाई गई है, उनमें से अधिकतर तुर्की और पूर्व सोवियत संघ के गणराज्यों की हैं।

जाने क्या है आईएस

इस संगठन के कई पूर्व नाम हैं जैसे ‘आईएसआईएस’ अर्थात् ‘इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया’, ‘आईएसआईएल’, ‘दाइश’ आदि। आईएसआईएस के नाम से इस संगठन का गठन अप्रैल 2013 में हुआ था। इब्राहिम अव्वद अल-बद्री उर्फ अबु बक्र अल-बगदादी इसका मुखिया है। शुरूवात में अल कायदा ने इसका हर तरह से समर्थन किया था| बाद में अल कायदा इस संगठन से अलग हो गया। यह अल कायदा से भी अधिक मजबूत और क्रूर संगठन के तौर पर जाना जाता हैं। आपको बता दें कि 29 जून 2014 को एक नया खिलाफत की स्थापना के साथ अबि बक्र अल-बगदादी को नामित खलीफा(शासक) और समूह को औपचारिक रूप से इसका नाम ”इस्लामिक स्टेट” रख दिया गया।

Share.