कश्मीर मुद्दे पर तुर्की ने पाकिस्तान के सुर से सुर मिलाये

0

न्यूयॉर्क: पाकिस्तान को तुर्की का साथ :-
पकिस्तान(Pakistan) ने कश्मीर मुद्दे को लेकर दुनिया भर में गुहार लगाईं थी लेकिन कोई भी देश उसका समर्थन करने के लिए तैयार नहीं था। लेकिन अब कश्मीर मुद्दे पर एक साथी पाकिस्तान को मिल गया है जिसके कंधे पर सर रखकर वह रो सकता है। संयुक्त राष्ट्र महसभा (United Nations General Assembly) में इमरान खान (Imran khan)द्वारा दिए गए नफरत भरे भाषण का समर्थन तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोगान ने किया है उन्होंने अपने भाषण में कश्मीर का मुद्दा उठाया. पूरी दुनिया में तुर्की एकमात्र मुस्लिम देश है, जिसने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने पर भारत की आलोचना की है और पाकिस्तान का समर्थन किया. तुर्की के राष्ट्रपति ने कहा था ​कि कश्मीर के मौजूदा हालात से तनाव और बढ़ सकता है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने महासभा में कश्मीर का मुद्दा उठाने के लिए तुर्की के राष्ट्रपति का शुक्रिया भी अदा किया।

हीरे पर मंदी की मार, हजारों हुए रोजगार

पीएम मोदी का कूटनीतिक जवाब :-
तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोगान द्वारा इस प्रकार का भाषण देने के बाद भारत के प्रधानमंत्री ने तुर्की के पडोसी देश साइप्रस के राष्ट्रपति निकोस अनास्तासियादेस से मुलाकात की और अर्मेनिया के प्रधानमंत्री निकोल पाश्नियान के साथ द्विपक्षीय बैठक की इस मुलाकत से ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है की पीएम मोदी तुर्की को कूटनीतिक स्तर पर जवाब देना चाहते है। वैसे ऐसा कहना गलत नहीं होगा क्योंकि इन दिनों प्रधानमंत्री मोदी पूरी दुनिया में लोकप्रिय है अपनी नीतियों के लिए, बिना किसी युद्ध के पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर हरा दिया।

PMC के बाद RBI ने लिया इस बैंक पर बड़ा एक्शन


दुश्मन का दुश्मन दोस्त:-
प्रधानमंत्री मोदी की साइप्रस और अर्मेनिया के शीर्ष नेताओं से मुलाकात इस बात की ओर इशारा कर रही है की यदि तुर्की ने पाकिस्तान का साथ दिया तो उसे इसका जवाब मिल सकता है। ऐसा कहा जाता है की दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है यहाँ भी ठीक वैसा ही है क्योंकि साइप्रस और अर्मेनिया के रिश्ते तुर्की से कभी अच्छे नहीं रहे। इसका मुख्य कारण यह है की 20 वी सदी की शुरू में अर्मेनिया ने तुर्की पर आरोप लगाया था की उसने भारी संख्या में उसके नागरिको को मारा है। और दूसरे पडोसी देश साइप्रस से एक द्वीप को लेकर विवाद है इस विवाद के कारण तुर्की ने 1974 में साइप्रस पर चढ़ाई भी की थी।

एक दिन होगा शिवसेना का सीएम….

-Mradul tripathi

Share.