ऐतिहासिक सम्मेलन में किम से मुलाक़ात

0

अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के साथ ऐतिहासिक सम्मेलन के लिए सिंगापुर पहुंच गए| इस अहम सम्मेलन में प्योंगयांग के परमाणु निरस्त्रीकरण का मुद्दा बातचीत के एजेंडे में शीर्ष पर रहेगा| ट्रंप और किम के बीच मंगलवार को होने वाला यह सम्मेलन किसी भी अमरीकी राष्ट्रपति और उत्तर कोरियाई नेता के बीच पहली बैठक होगी| अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप ने बैठक को शांति की एकमात्र पहल  बताया है|

नॉर्थ कोरिया और अमरीका के इतिहास में ऐसा पहली बार होने जा रहा है, जब दोनों देशों के मौजूदा राष्ट्राध्यक्षों के बीच मुलाकात होगी| बता दें कि दोनों शीर्ष नेताओं के बीच प्रस्तावित यह मुलाकात 12 जून को सिंगापुर में होगी|

अमरीका और उत्तर कोरिया के बीच दशकों की दुश्मनी है, जिसका असर दोनों नेताओं के बयानों में भी दिखता रहा है| ट्रंप  ने अमरीका की सत्ता संभालने के साथ ही उत्तर कोरिया पर भड़काऊ बयानबाजी शुरू कर दी थी| एक बार ट्रंप ने यहां तक कहा था कि उत्तर कोरिया अमरीका को ज्यादा धमकी न दे नहीं तो उन्हें ऐसी आग और तबाही देखने को मिलेगी, जिसे दुनिया ने पहले कभी नहीं देखा होगा|

अब 65 साल पुरानी दुश्मनी जब दोस्ती की ओर कदम बढ़ा चुकी है तो अमरीका उत्तर कोरिया को यह समझाने में कामयाब हो पाएगा कि वह अपने परमाणु हथियार नष्ट कर दे, जो अमरीका की चिंता का सबसे बड़ा कारण है? विशेषज्ञों की राय देखें तो उत्तर कोरिया शायद ही कभी ऐसा करने के लिए तैयार हो क्योंकि तानाशाह किम जोंग उन कई बार यह कह चुका है कि उन्हें परमाणु शक्ति संपन्न रहने की जरूरत है, जिससे कि वह अमरीका से अपनी रक्षा कर सके|

Share.