इस्लामिक स्टेट के लीडर को मौत के घाट उतारा

0

विश्व स्तर पर घट रही बुरी घटनाओं के बीच एक अच्छी ख़बर आ रही है | आतंकवाद से आज हर देश त्रस्त हो चुका है, ऐसे में किसी आतंकी का मारा जाना आखिर खुशखबर ही तो है| हाल ही में श्रीलंका में किए गए बम धमाकों के लिए जिम्मेदार आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) से जुड़े एक लीडर (Kerala IS Module Leader Rashid Abdulla Killed) को मौत के घाट उतार दिया गया है|

एक और बम धमाके ने ली कई लोगों की जान

प्राप्त जानकारी के अनुसार, आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) के केरल मॉड्यूल के अगुआ राशिद अब्दुल्ला (Kerala IS Module Leader Rashid Abdulla Killed)  के अफगानिस्तान में मारे जाने की सूचना है। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहता था, लेकिन पिछले करीब दो माह से उसके सोशल मीडिया अकाउंट पर किसी तरह की एक्टिविटी नहीं थी, जिसके कारण उसके बारे में तरह-तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं। राशिद केरल के उन 21 लोगों का लीडर था, जो मई-जून 2016  में अफगानिस्तान चले गए थे।

अब्‍दुल्‍ला सोशल मीडिया पर इस्लामिक स्टेट की विचारधारा का प्रसार करता था। उसका टेलीग्राम पर एक अकाउंट था, जिसका इस्‍तेमाल वह अपने मकसद के लिए करता था।

किम जोंग उन ने पांच अफसरों को गोली से उड़ाया

रिपोर्ट के अनुसार, टेलीग्राम एप पर उसने कई अकाउंट्स के जरिये 90 से अधिक ऑडियो क्लिप भेजे थे। इंजीनियरिंग ग्रेजुएट अब्‍दुल्‍ला ने आईएस (Kerala IS Module Leader Rashid Abdulla Killed)  के केरल मॉड्यूल की जिम्‍मेदारी एक अन्‍य इंजीनियरिंग ग्रेजुएट शजीर मंगलास्सेरी अब्दुल्ला के मारे जाने के बाद अपने हाथों में ले ली थी, जो केरल के कोझिकोड का रहने वाला था।

‘TOI’ की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले करीब दो महीनों से सोशल मीडिया पर उसके सक्रिय नहीं होने को लेकर जब सवाल किया गया तो एक आईएस आतंकी की ओर से जवाब मिला कि ‘वह अब इस दुनिया में नहीं है।’ आईएस आतंकी ने टेलीग्राम एप पर ही यह जवाब दिया। उसने यह भी बताया कि अब्‍दुल्‍ला अफगानिस्‍तान में अमेरिकी सुरक्षा बलों के हवाई हमलों में मारा गया (Islamic State leader killed) और इसमें ‘तीन भारतीय भाई, दो महिलाएं और चार बच्‍चे भी मारे गए।’ आईएस आतंकी ने हालांकि अपनी पहचान नहीं बताई।

सरकारी इमारत में घुसकर बरसाई अंधाधुंध गोलियां, कई मरे

सुरक्षा एजेंसियों ने अभी राशिद के मारे जाने के बारे में आधिकारिक पुष्टि नहीं की है। राशिद केरल के कासरागोड जिले का रहने वाला था। बताया जाता है कि वह अपनी पत्‍नी (Islamic State leader killed) आयशा उर्फ सोनिया को साथ लेकर गया था। वह केरल के उन 21 लोगों में शामिल था, जो मई-जून 2016 में यूएई और ईरान होते हुए अफगानिस्तान पहुंचे थे। इससे करीब दो साल पहले उसका रूझान आईएस की विचारधारा की तरफ बढ़ने लगा। वह ऑडियो संदेश के जरिये अधिक से अधिक लोगों को आईएस से जोड़ने का प्रयास करता था।

Share.