website counter widget

हाईकोर्ट ने कानून मंत्रालय को जज को हटाने का दिया आदेश

0

पाकिस्तान में जज अरशद मलिक ने पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को अल-अजीजिया स्टील मिल भ्रष्टाचार मामले में सज़ा सुनाई थी। हाल ही में शरीफ की बेटी मरियम ने एक वीडियो जारी किया था, जिसमें मलिक ने कथित तौर पर ब्लैकमेल के चलते शरीफ को सज़ा सुनाने की बात स्वीकारी थी। मलिक ने हालांकि इस वीडियो को फर्जी बताया है, लेकिन इस वीडियो को लेकर जवाबदेह न्यायालय के जज (Removes Anti Corruption Judge Arshad Malik) की निष्पक्षता पर सवाल उठाए जा रहे थे। इसी के मद्देनज़र पाकिस्तान की सरकार ने जज अरशद मलिक को बर्खास्त कर दिया है| इस्लामाबाद हाई कोर्ट ने कानून मंत्रालय को मलिक को हटाने का आदेश दिया था|

विधायक की बागी बेटी साक्षी के पति की पहले हो चुकी है सगाई

कानून मंत्री फारोघ नसीम ने शुक्रवार को बताया कि कथित वीडियो और प्रेस विज्ञप्ति के आधार पर जज अरशद मलिक (Removes Anti Corruption Judge Arshad Malik) को बर्खास्त किया गया है| मलिक की बर्खास्तगी के बाद नवाज शरीफ को रिहा करने की मांग उठने लगी है| गौरतलब है कि शरीफ की पार्टी और उनके समर्थक उन पर चलाए गए मुकदमों को राजनीति से प्रेरित बता रहे हैं|

गुरुवार को एक पाकिस्तानी न्यूज चैनल पर उस समय रोक लगा दी गई, जिस वक्त मरियम इंटरव्यू दे रही थीं| पाकिस्तान न्यूज चैनल ‘हम न्यूज’ में काम करने वाले एक पाकिस्तानी पत्रकार ने ट्वीट करते हुए कहा था’  “अभी पता चला है कि मरियम नवाज का लाइव इंटरव्यू शुरू होने के कुछ मिनट बाद ही जबरन उसे रुकवा दिया गया है|” चैनल के ब्लैकआउट होने के बाद न्यूज़ चैनल की ओर से इस मामले पर एक ट्वीट किया गया है|

वीरेंद्र सहवाग की पत्नी के साथ बड़ी धोखाधड़ी

दरअसल, मरियम नवाज़ की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस दिखाने के लिए तीन पाकिस्तानी समाचार चैनलों को नोटिस जारी किया गया था। उनकी प्रेस कॉन्फ्रेंस भी बीच में रोक दी गई थी। इन समाचार चैनलों को पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक प्राधिकरण (PEMRA) के आदेश पर ऑफ एयर किया गया था। मरियम ने तब इस घटना को अविश्वसनीय और शर्मनाक करार दिया था।

गौरतलब है कि नवाज शरीफ अल अजीजिया स्टील मिल मामले में भ्रष्टाचार के दोषी ठहराए गए थे, जिसके बाद वह 24 दिसंबर 2018 से कोट लखपत जेल में बंद हैं| उन्हें सात साल जेल की सज़ा सुनाई गई है|

ममता बनर्जी बनेगी कांग्रेस अध्यक्ष !

बता दें कि 6 जुलाई को मरियम नवाज़ ने जवाबदेही अदालत के न्यायाधीश अरशद मलिक का एक वीडियो जारी किया था, जिसमें मरियम ने बताया कि उनके पिता के खिलाफ सबूतों की कमी होने के बावजूद भी उन्हें जेल में डाल दिया गया।

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.