कर्तव्य निभाते समय जवान शहीद, 5 लापता

0

भारतीय सेना (Indian Army) विपरीत परिस्थितियों में भी सदैव देश की सेवा करने में तत्पर रहती है। भारतीय सेना (Indian Army) दुनिया में सबसे ऊंचाई पर स्थित सीमा की रक्षा करने वाली पहली सेना है। सियाचीन ग्लेशियर पर हड्डियां जमा देने वाली ठंड के बीच भारतीय जवान हमेशा तैनात रहते हैं। उन्हें हमेशा दुश्मन के साथ ही प्राकृतिक आपदाओं का भी सामना करना पड़ता है | ऐसी ही प्राकृतिक आपदा की चपेट में सेना के 6 जवान आ गए, जिनमें से एक शहीद हो गया|  

दरअसल, हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में नमझा डोगरी के पास बुधवार की शाम अपना कर्तव्य निभाते समय ग्लेशियर गिरने से आईटीबीपी के 6 जवान चपेट में आ गए। इनमें से एक जवान की अस्पताल में मौत हो गई, जबकि 5 जवान अभी भी ग्लेशियर में दबे हैं। किन्नौर की पुलिस अधीक्षक साक्षी वर्मा ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा जवानों को ग्लेशियर से निकालने के लिए रेस्क्यू चलाया जा रहा था,  लेकिन अंधेरे की वजह से उसे बंद कर दिया गया था| उजाला होने पर फिर से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया|  घटना शिपकिला के पास किन्नौर-तिब्बत बॉर्डर के पास की है।

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश के शिमला और अन्य क्षेत्रों में इन दिनों भारी बर्फबारी हो रही है, जिस कारण पहाड़ी क्षेत्रों में मुश्किलें बढ़ गई हैं। बीते दिनों हुई बर्फबारी के कारण बुधवार शाम तक प्रदेश में 225 सड़कों पर वाहनों की आवाजाही बंद रही। पांगी-भरमौर में बिजली सप्लाई सुचारू नहीं होने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। चंबा जिले के दुर्गम क्षेत्रों में बुधवार को भी यातायात व्यवस्था ठप रही।

कैदियों ने की पाकिस्तानी कैदी की हत्या

मुंबई के बाद अब कानपुर में धमाका

ढाका में आग ने किया मौत का तांडव

अंकुर उपाध्याय

रहें हर खबर से अपडेट, ‘टैलेंटेड इंडिया’ के साथ| आपको यहां मिलेंगी सभी विषयों की खबरें, सबसे पहले| अपने मोबाइल पर खबरें पाने के लिए आज ही डाउनलोड करें Download Hindi News App और रहें अपडेट| ‘टैलेंटेड इंडिया’ की ख़बरों को फेसबुक पर पाने के लिए पेज लाइक करें – Talented India News

Share.