भारत को पाकिस्तान से नहीं टिड्डियों से है खतरा

0

पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पहले से ही बदहाल है और एक कीड़े ने पाकिस्तान की नाक में दम कर रखा है। दरअसल पाकिस्तान में इन दिनों टिड्डी (Locust)  ने कोहराम मचाया हुआ है। ये कीड़े इतनी अधिक संख्या में पाकिस्तान में पहुंच रहे हैं कि आम लोगों से लेकर सरकार दोनों को ही परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

भारत को पाकिस्तान से नहीं टिड्डियों से है खतरा

1993 के बाद टिड्डी (Locust) दल का यह सबसे बड़ा हमला माना जा रहा है। पाकिस्तानी सरकार ने टिड्डी (Locust) दल को रोकने के लिए हवाई जहाज से एंटी टिड्डी स्प्रे किया है। प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran khan) इस बात को लेकर गंभीर हैं, पाकिस्तानी अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने 10000 हेक्टेयर में टिड्डी (Locust) कण्ट्रोल कार्यक्रम चला रखा है। टिड्डी के कारण पाकिस्तान में फसलों को काफी नुकसान पहुंच रहा है।  

भारत (Bharat) और पाकिस्तानी (Pakistani) अधिकारियों ने इस टिड्डी वाली समस्या से निपटने के लिए मुलाक़ात की है। वहीँ मानसून के पूर्व बारिश और तेज आंधी के चलते भारत भी इसे लेकर चिंता में है। हवा की दिशा-दशा अनुकूल मिलने पर टिड्डी राजस्थान (Rajasthan) की तरफ रुख कर सकते हैं। भारत-पाक सीमा के मुनाबो गांव में करीब चार घंटे चली इस बैठक में वैज्ञानिक भी शामिल हुए। बुधवार को सीमा से लगे सभी जिलों में अलर्ट घोषित किया गया है।

अब ‘मेक इन इंडिया’ के तहत बनेंगी पनडुब्बियां

अधिकारियों ने बताया कि टिड्डी (Locust) दल को रोकने के लिए मेलाथियान (एक रासायनिक पेस्टीसाइड) का उपयोग होता है। ऐसी संभावनाएं हैं कि दोनों देश इस समस्या से एक साथ निपटेंगे। सामान्य तौर पर टिड्डी दल जून, जुलाई के महीने में नजर आते हैं। इस बीच यह तेजी से सक्रिय होते हैं। टिड्डी चेतावनी संगठन सभी संसाधनों के साथ तैयार है। टीमें सभी जगह पहुंच चुकी हैं।

अब कर्मचारियों को किया जाएगा जबरन रिटायर!

टिड्डी चेतावनी अधिकारी महेश चंद्र (Mahesh chandra) ने बताया कि 26 साल बाद टिड्डी दल का खतरा इतने बड़े स्तर पर मंडरा रहा है। ये पाकिस्तान से आते हैं और भारत के बाड़मेर, जैसलमेर, बीकानेर और सूरतगढ़ जैसे इलाकों में फैल जाते हैं।

Share.