29 अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि

0

भारत आज इस स्थिति में आ गया है कि वह स्वयं महत्वपूर्ण निर्णय ले सकता है | आज उसने पूरी दुनिया में यह संदेश पहुंचा दिया है कि भारत से दोस्ती अन्य देशों के लिए फायदेमंद है और यदि उससे दुश्मनी ली तो आर्थिक और अन्य स्तर पर उन्हें नुकसान उठाना पड़ सकता है| ऐसा ही कुछ अमेरिका के साथ भी हुआ है | भारत ने अमेरिका को अब बड़ा झटका दे दिया है|

Video : कांग्रेस नेता के भाई ने महिला पर चलाए लात-घूंसे

प्राप्त जानकारी के अनुसार, अमेरिका की तरफ से कारोबारी रियायतें वापिस लिए जाने के बाद भारत ने भी उन्हें करारा जवाब दिया है| अब  भारत ने भी 29 अमेरिकी उत्पादों पर आयात शुल्क (Increase in import duty on 29 US products) में वृद्धि करने का निर्णय ले लिया है।

अमेरिका से आयात होने वाले जिन उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि (Increase in import duty on 29 US products) की बात की जा रही है, उनमें अखरोट, बादाम और दालें शामिल हैं। आयात शुल्क में वृद्धि के बाद भारत को इनके आयात से 21.70 करोड़ डॉलर का अतिरिक्त राजस्व मिलने की उम्मीद है। सरकार ने पिछले साल जून में इसकी घोषणा की थी, लेकिन बाद में इसकी समय सीमा कई बार बढ़ाई गई। बढ़ी हुई दरें 16 जून से लागू होंगी। वित्त मंत्रालय की तरफ से इसके लिए जल्दी ही अधिसूचना जारी होने की उम्मीद है।

मप्र: बीजेपी नेता को मार कर लिखा THE END

पिछले साल जब अमेरिका ने भारतीय स्टील और एल्युमिनियम उत्पादों पर आयात शुल्क में वृद्धि (Increase in import duty on 29 US products) की थी तभी भारत ने जवाबी कार्रवाई में इन 29 उत्पादों पर ड्यूटी बढ़ाने की घोषणा की थी। उस वक्त भारत ने अमेरिका को तीन महीने में वक्त दिया था। लेकिन बाद में द्विपक्षीय बातचीत में यह मुद्दा लंबा खिंचने के बाद ड्यूटी बढ़ाने का फैसला टलता रहा।

अमेरिका ने मार्च 2018 में स्टील पर आयात शुल्क बढ़ाकर 25 फीसद और एल्युमीनियम उत्पादों पर 10 फीसद कर दिया था। चूंकि भारत इन दोनों उत्पादों का प्रमुख निर्यातक है, इसलिए अमेरिका के इस कदम से उसे 24 करोड़ डॉलर का अतिरिक्त भुगतान (Increase in import duty on 29 US products) करना पड़ रहा है। भारत के इस फैसले से अमेरिकी अखरोट पर आयात शुल्क को मौजूदा 30 फीसद से बढ़ाकर 120 फीसद हो जाएगी।

इसके अतिरिक्त चना और मसूर दाल पर ड्यूटी 30 फीसद से 70 फीसद और अन्य दालों पर 40 फीसद हो जाएगी। इसके अतिरिक्त बोरिक एसिड समेत कुछ अन्य रसायनों पर भी ड्यूटी की दरें बढ़ेंगी। साथ ही अमेरिकी सेब, नाशपाती और कुछ स्टील उत्पादों पर भी आयात शुल्क की दर बढ़ेगी। साल 2017-18 में भारत ने अमेरिका को 47.9 अरब डॉलर का निर्यात किया था, जबकि अमेरिका से आयात 26.7 अरब डॉलर का किया गया। भारत ने अमेरिका को आयात शुल्क की दर में वृद्धि (Increase in import duty on 29 US products) करने के अपने इस निर्णय से अवगत करवा दिया है।

फर्जी रेलवे टिकटों के साथ पकड़ाए 387 दलाल

Share.