डॉनल्ड ट्रम्प को अब छोडनी होगी राष्ट्रपति की कुर्सी

0

भारत में जैसे नागरिकता संशोधन अधिनियम (Citizenship Amendment Act ) पर बवाल मचा हुआ है वैसे ही अमेरिका की राजनीति (American politics ) में भी भूचाल आया हुआ है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रम्प (US President Donald Trump ) की कुर्सी खतरे में आ गई है। उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (House of Representatives ) में पास हो गया। ट्रम्प के खिलाफ कई लोग आ गए हैं और उनके पद छोडने की मांग कर रहे हैं। अमेरिकी संसद के निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव में इस मामले पर करीब 10 घंटे बहस हुई।

62 लाख की चोरी के बाद कैश के साथ इंस्टाग्राम पर डाली फोटो और फिर…

हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव (House of Representatives) में डेमोक्रेटिक प्रतिनिधि सुसान डेविस (Democratic Representative Susan Davis) ने ट्रम्प के खिलाफ भाषण दिया। उन्होने कहा कि हम राष्ट्रपति पर महाभियोग नहीं लगा रहे हैं। वह खुद ही ऐसा कर रहे हैं। आप राष्ट्रपति हैं और आप न्याय में बाधा डालते हैं। आप एक विदेशी नेता को रिश्वत देने का प्रयास करते हैं। आप राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरा हैं। आपका महाभियोग होगा, कहानी का अंत… स्पीकर नैन्सी पॉलोसी (Nancy Polosi) ने कहा कि डोनाल्ड ट्रंप की बतौर राष्ट्रपति उल्टी गिनती शुरू हो गई है। कहा जा रहा है कि ट्रंप को अगले महीने सीनेट में मुकदमे का सामना करना पड़ सकता है, लेकिन यहां उनकी पार्टी को बहुमत है। स्पीकर नैन्सी ने ट्रम्प के खिलाफ आगे कहा कि संविधान के द्वारा जो हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव को महाभियोग की ताकत दी गई है, उसको लेकर बुधवार को सभी सदस्य मतदान करेंगे। उन्होंने सभी डेमोक्रेट्स सदस्यों को संबोधित करते हुए लिखा कि हमने बतौर कांग्रेस सदस्य इस बात की शपथ ली थी कि हम संविधान की रक्षा करेंगे, जिसका अब समय आ गया है।

31 दिसंबर से पहले नहीं भरा इनकम टैक्स रिटर्न तो देना होगा भारी जुर्माना

ट्रम्प की चिट्ठी

अपने बचाव में ट्रम्प ने नैन्सी पॉलोसी को चिट्ठी लिखकर सफाई दी थी। ट्रम्प (US President Donald Trump) ने चिट्ठी में लिखा कि मेरे खिलाफ जो महाभियोग लाने की कोशिश की जा रही है, वह अमेरिकी इतिहास में लोकतंत्र पर सबसे बड़ा हमला है। जो बिडेन के सहयोगियों के द्वारा मुझे मेरे पद से हटाने की कोशिश है। अमेरिका के राष्ट्रपति पर आरोप लगे हैं कि साल 2020 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में संभावित प्रतिद्वंद्वी और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बाइडेन समेत अन्य प्रतिद्वंद्वियों की छवि खराब करने के लिए यूक्रेन से गैरकानूनी तरीके से मदद कि मांग की थी।

राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद कानून बना नागरिकता संशोधन विधेयक

            – Ranjita Pathare 

 

Share.