website counter widget

Viral Video : कुत्ते ने देकर CPR बचाई लड़की की जान

0

फ्रांस – कुत्ते इंसान के सबसे अच्छे दोस्त होते हैं और ये सबसे ज्यादा वफादार जानवर होते हैं। एक इंसान मुसीबत के वक़्त दूसरे इंसान के काम भले न आए लेकिन कुत्ते ये फ़र्ज़ निभाना कभी नहीं भूलते। कुत्ते अपने मालिक की जान बचाने के लिए खुद की जान की भी परवाह नहीं करते। यह कोई कहानी या सिर्फ कहने की बात नहीं बल्कि इसके कई उदाहरण पहले भी कई बार सभी के सामने पेश किए जा चुके हैं। ऐसी कई घटनाएं सुनने और देखने को मिली हैं जब किसी कुत्ते ने अपनी जान पर खेलकर या फिर अपनी जाना गंवा कर अपने मालिक की जान बचाई है। अब इन दिनों सोशल मीडिया पर एक ऐसा ही वीडियो जबरदस्त तरीके से वायरल हो रहा है जहां एक कुत्ता एक महिला की जान बचाते हुए दिखाई दे रहा है।

विधायकों को कैद कर बीजेपी को रोकेगी शिवसेना ?

जी हां एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर छाया हुआ है जिसमें एक कुत्ता एक महिला को कार्डियोपल्मोनरी रिसैसिटेशन (CPR) यानी चेस्ट कंप्रेशन देता हुआ दिखाई दे रहा है। दरअसल यह वीडियो कुत्ते की ट्रेनिंग का है। इसमें एक महिला जमीन पर लेटी हुई दिखाई दे रही है और एक डॉग महिला के ऊपर अपने दोनों पैरों से CPR कर रहा है। डॉग को CPR की ट्रेनिंग देकर किसी व्यक्ति की जान बचाई जा सकती है। इसी का एक उदाहरण इस वीडियो में दिया गया है। जिसमे महिला बेहोश होने का नाटक करती है और डॉग तत्काल ही उसे CPR देकर उसकी जान बचा लेता है।

हिंदू मेडिकल छात्रा को पंखे पर लटकाने से पहले हुआ था रेप

क्या है CPR?

CPR (कार्डियोपल्मोनरी रिसैसिटेशन) यानी चेस्ट कंप्रेशन। यह एक तरह की प्रक्रिया है या इसे प्राथमिक उपचार भी कहा जा सकता है। जब किसी को दिल का दौरा पड़ता है तो सीपीआर देकर उसकी जान बचाई जा सकती है। इस प्रक्रिया में मरीज की छाती पर हाथों के माध्यम से उसकी सांस दोबारा लाने की कोशिश की जाती है जिससे मरीज की जान बचाई जा सके।

बिहार में चांदी की बारिश से गरीबों की चांदी

कैसे दिया जाता है CPR?

अगर किसी शख्स को अचानक दिल का दौरा पड़ जाए तो इस तरह CPR देकर उसकी जान बचाई जा सकती है।

सबसे पहले तो आस-पास के लोगों और डॉक्टर को बुलाएं और घबराएं बिल्कुल भी नहीं।

डॉक्टर को इन्फॉर्म करने के बाद तत्काल ही चेक करें की मरीज होश में है या नहीं। अगर मरीज बेहोश है तो उसके नाक के पास दो अनुगलियां ले जाकर उसकी सांसे चेक करें।

इसके अलावा मरीज की पल्स चेक करें। अगर पल्स और सांसे रुक गई हैं तो तत्काल ही मरीज को CPR दें।

CPR देने के लिए अपने बाएं हाथ को सीधा रख कर उसके पर दाएं हाथ को रखें और अंगुलियों को लॉक कर लें।

अब मरीज की छाती के बीचों-बीच लॉक किए गए हाथ को रख कर पूरे प्रेशर के साथ छाती को दबाएं। आपको इसी तरह प्रति मिनट कम से कम 100 कंप्रेशन देने होंगे। यह प्रक्रिया तब तक करें जब तक मरीज की सांसे न चलने लगें और उसे होश न आ जाए। अगर डॉक्टर आ जाता है तब भी आप प्रक्रिया रोक सकते हैं।

वहीं प्रेशर देते वक़्त इस बात का ख्याल अपने मन से बिलकुल निकाल दें कि मरीज की चेस्ट बोन फ्रेक्चर हो जाएगी। उस वक़्त सिर्फ मरीज को होश में लाना जरूरी है।

Prabhat Jain

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.