website counter widget

चीन को बांटने की कोशिश करने वालों को कुचल देंगे: शी जिनपिंग

0

काठमांडू: चीन(china) के राष्ट्रपति शी जिनपिंग(Xi Jinping) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने के बाद नेपाल पहुंचे। यहाँ पर चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग ने नेपाल के बड़े नेताओं से मुलाकात की और साथ ही दुनिया को चेतावनी दी की चीन को विभाजित करने वाली ताकतों को कुचलकर रख देंगे। जिनपिंग ने यह बयान भारत के दो दिवसीय दौरे के बाद नेपाल पहुंचने पर दिया। जिनपिंग ने नेपाल के शीर्ष नेतृत्व के साथ बड़ी बातचीत की और दोनों देशों ने अपने द्विपक्षीय संबंधों को सहयोग की रणनीतिक साझेदारी तक पहुंचाया।

चीन और नेपाल ने एक ट्रांस हिमालयन रेलवे लाइन बिछाने की योजना सहित कई समझौतों पर हस्ताक्षर किए। चीनी राष्ट्रपति ने काठमांडू (Kathmandu) और तातोपानी ट्रांजिट बिंदु को जोड़ने वाले अरनिको हाईवे का उन्नयन करने का संकल्प लिया. इसे नेपाल में आये 2015 के विनाशकारी भूकंप के बाद बंद कर दिया गया था. उन्होंने संपर्क बढ़ाने के लिये और अधिक सीमा चौकियां खोलने का भी संकल्प लिया. शी ने इससे पहले शनिवार को नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी (Vidya Devi Bhandari) के साथ अपनी बैठक के दौरान नेपाल के विकास कार्यक्रमों के लिए 56 अरब नेपाली रुपए की मदद की घोषणा की। शी जिनपिंग पिछले 23 वर्षों में नेपाल की यात्रा करने वाले पहले चीनी राष्ट्रपति हैं।

एक जानकारी के अनुसार रविवार को नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली(KP Sharma Oli)  के साथ बैठक के दौरान शी जिनपिंग ने कहा कि चीन को विभाजित करने का प्रयास करने वाले किसी भी व्यक्ति को कुचल दिया जाएगा। इतना ही नहीं, चीन को विभाजित करने के ऐसे प्रयासों का समर्थन करने वाली किसी भी बाहरी ताकत को चीनी लोग कभी पूरा नहीं होने देंगे और वह बाहरी ताकतों के लिए एक सपना बनकर रह जाएगा जो कभी पूरा नहीं होगा। वही नेपाल कि राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी द्वारा शनिवार को दिए गए रात्रिभोज के दौरान शी ने कहा, ‘हमारी दोस्ती दुनिया में आदर्श है और दोनों देशों के बीच कोई विवाद नहीं है।

-Mradul tripathi

 

ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.