चीन का हर कामकाजी युवा ‘996’ के कारण परेशान

0

‘996’ ऐसी बला है, जिससे चीन का हर कामकाजी युवा परेशान हो गया है | इस के कारण वहां के नौकरीपेशा लोगों की नींद उड़ गई है, उनका जीना हराम हो गया है| ये युवा दुश्मन देशों से इतने परेशान नहीं हैं, जितने ‘996’ से | कई चीनी युवा बड़े मंचों पर इसकी आलोचना कर चुके हैं| कई जगहों पर शिकायतें कर चुके हैं, लेकिन फिलहाल उन्हें इससे निजात मिलते नहीं दिख रही है| आप सोच रहे होंगे आखिर यह है क्या ? तो आइए हम आपको बताते हैं|

घाटी से बुरहान गैंग का किया सेना ने खात्‍मा

 हालांकि अभी तक इस फॉर्मूले को लेकर चीनी सरकार अथवा प्रशासन की ओर से कोई टिप्पणी नहीं की गई है. हां, कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेली ने चीन के 40 घंटे के वर्कवीक कानून का हवाला देते हुए 996 पैटर्न को गलत ठहराया है. उसने यह बात संपादकीय में प्रकाशित की थी.

गौरतलब है कि इन दिनों चीन में डिजिटल कामकाज बहुत ही तेज़ी से बढ़ता जा रहा है| इसके तहत तेजी से इंजीनियर, कोडर, सॉफ्टवेयर डेवलपर, गेम डिजाइनर और आईटी सेक्टर के लोग इस 996  से परेशान हैं. उनकी रातों नींद इस 996  हराम कर दी है| दरअसल, 996 का मतलब है सप्ताह में छह दिन सुबह नौ से रात नौ बजे तक काम करने के घंटे| यह कार्य भी कर्मचारियों से मर्जी से नहीं बल्कि दबाव में करवाया जाता है| खास बात यह है कि इसके लिए उनके वेतनमान में कोई इजाफा भी नहीं किया गया है|

हाल ही में कुछ देशों में ऐसी चीनी कंपनियों की लिस्ट जमकर वायरल हो रही है, जहां 996 फॉर्मूला लागू लगा हुआ है| 996 की तर्ज पर काम कराने वाली कंपनियों में हुआवाई और अलीबाबा जैसी कंपनियों के नाम भी हैं| हाल ही में एक चीनी युवा ने समाचार एजेंसी को यह मामला बताया, तब से यह पूरी दुनिया में बहस का केंद्र बन गया है |

मोदी से खफा हैं, रेड लाइट एरिया के वोटर्स

Image result for हुआवेई

बताया जा रहा है कि चीन में ऐसी करीब 139 कंपनियां हैं, जिनमें 996 का फॉर्मूला लागू है| बाद में सोशल मीडिया में यह बात आग की तरह फैल गई| चीन में मशहूर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वीवो पर #996 पर पोस्ट की जा रही चीजों को 1.5 करोड़ बार देखा जा चुका है.

चीन में बहुत से लोग विरोध करने युवाओं को नाकारा और आलसी बता रहे हैं| इसमें अलीबाबा के संस्थापक जैक मा के बयान भी शामिल हैं| वे 996 पैटर्न को महत्वाकांक्षी लोगों के लिए आशीर्वाद बता रहे हैं|

Image result for अलीबाबा

कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपुल्स डेली ने चीन के 40 घंटे के वर्कवीक कानून का हवाला देते हुए 996 पैटर्न को गलत ठहराया है| उसने यह बात संपादकीय में प्रकाशित की थी| हालांकि अभी तक इस फॉर्मूले को लेकर चीनी सरकार अथवा प्रशासन की ओर से कोई टिप्पणी नहीं की गई है|

बीजेपी कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा

अब तक दुनिया में सबसे ज्यादा काम करने वाले देशों में जापान के लोगों का नाम आता था, लेकिन अब वहां भी श्रम कानून बन गया है| वहां किसी भी महीने में किसी भी कर्मचारी से अधिकतम 45 घंटे ओवरटाइम कराया जा सकता है| इसी तरह दक्षिण कोरिया में भी एक हफ्ते में अधिक से अधिक 52 घंटे ही काम करवाया जा सकता है,  पहले यह 62 घंटे था.

 लेकिन चीन में इस विरोध की जमकर आलोचना भी की जा रही है. बहुत से लोग विरोध करने वालों को नाकारा और आलसी बता रहे हैं. इसमें अलीबाबा के संस्थापक जैक मा के बयान भी शामिल हैं. वे 996 पैटर्न को महत्वाकांक्षी लोगों के लिए आशीर्वाद बता रहे हैं.

996 पैटर्न के कारण चीन के ज्यादातर टेकी युवा वर्क-लाइफ बैलेंस (काम और जीवन में संतुलन) खो बैठे हैं और यहां-वहां इसकी शिकायत कर रहे हैं|

 चीन के युवा इन दिनों एक बेहद गंभीर समस्या से जूझ रहे हैं. इस समस्या का नाम है 996. कई चीनी युवाओं ने इसे लेकर कई बड़े मंचों पर इसकी आलोचना कर चुके हैं. कई जगहों पर शिकायतें कर चुके हैं. लेकिन फिलहाल उन्हें इससे निजात मिलते नहीं दिख रही है.

Share.