website counter widget

महिलाओं ने लिया बच्चे न पैदा करने का फैसला, कारण ?

0

जलवायु परिवर्तन के लिए काम करने वाले एक संगठन की महिलाओं ने बच्चा पैदा नहीं करने का फैसला (Britain Activists On Birth Strike ) लिया है| मामला ब्रिटैन का है | जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनिया को जागरूक करने और ठोस कदम उठाने के लिए प्रेरित करने के लिए इन महिलाओं ने ऐसा किया है| ब्रिटेन के एक संगठन से जुड़ी महिलाओं का कहना है कि वह नहीं चाहती हैं कि आने वाली पीढ़ियों को ग्लोबल वॉर्मिंग से कोई नुकसान उठाना पड़े| इस संगठन में शामिल महिलाओं ने कहा है कि जलवायु परिवर्तन गंभीर समस्या बनती जा रही है| उन्हें दुनिया में सूखे, अकाल, बाढ़ और ग्लोबल वार्मिंग का डर सता रहा है| ऐसे में वो चाहते हैं कि आने वाली पीढ़ियों के लिए जीवन की गुणवता बेहतर हो|

रॉ चीफ बने बालाकोट एयर स्ट्राइक का चक्रव्यूह रचने वाले सामंत गोयल

 संगठन की प्रमुख ब्लाइथे पेपीनो ने पिछले साल के आखिर में बच्चा न पैदा करने का फैसला (Britain Activists On Birth Strike ) किया था| उन्होंने कहा, ‘मैं बच्चा नहीं चाहती हूं| दरअसल ये दुनिया बच्चों के रहने लायक नहीं है| ‘ पोपीनो ने साल 2018 में ‘बर्थस्ट्राइक’ नाम से एक ग्रुप का गठन किया| इस संगठन से लगातार लोग जुड़ रहे हैं| संगठन कि सदस्य संख्या अब 330 हो चुकी हैं, जिसमें 80 फीसदी महिलाएं हैं|

Video : विधायक आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम अधिकारी को बैट से पीटा

ग्लोबल बॉर्मिंग (Britain Activists On Birth Strike ) के बारे में मिली जानकारी के अनुसार हिमालय के ग्लेशियरों पर ग्लोबल वॉर्मिंग के असर का आंकलन साल 2000 से 2016 के बीच किया गया जिसमे पाया गया है कि हर साल ग्लेशियरों की औसतन 800 करोड़ टन बर्फ पिघल रही है| इससे पहले के 25 सालों यानी 1975 से 2000 तक हर साल औसतन 400 करोड़ टन बर्फ पिघलती रही, लेकिन इसके बाद के 16 सालों में ग्लेशियरों के पिघलने की रफ्तार दोगुनी हो गई है|

सही कार्य न करने पर 165 कर्मचारी बर्खास्त, 15 सस्पेंड

Summary
Review Date
Author Rating
51star1star1star1star1star
ट्रेंडिंग न्यूज़
Share.