नाराज़ अमरीका ने छोड़ी सदस्यता

0

अमरीका ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) से बाहर होने का फैसला लिया है। संयुक्त राष्ट्र में अमरीका की एम्बेसेडर निकी हेली ने परिषद पर इज़राइल से राजनीतिक पक्षपात करने का आरोप लगाया है। बता दें कि अमरीका लंबे समय से 47 सदस्यीय इस परिषद में सुधार की मांग कर रहा था।

अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और संयुक्त राष्ट्र के लिए अमरीका की दूत निकी हेली ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस बात की घोषणा की। निकी हेली ने बताया कि अमरीका संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद से बाहर हो रहा है। हेली ने कहा कि रूस, चीन, क्यूबा और मिस्र जैसे देशों ने परिषद में सुधार करने की कोशिशों में रुकावटें डाली हैं। उन्होंने कहा कि परिषद लगातार उन देशों को बलि का बकरा बनाता है, जिनका मानवाधिकार मामले में रिकॉर्ड बेहतर है ताकि वे इसे तोड़ने वालों से दुनिया का ध्यान हटा सकें।

बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमरीका तीन बड़े अंतरराष्ट्रीय संगठनों से किनारा कर चुका है। इससे पहले उसने पेरिस क्लाइमेट चेंज और ईरान परमाणु समझौते से बाहर होने का ऐलान किया था।

क्या है यूएनएचआरसी ?

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का उद्देश्य दुनिया में मानवाधिकार से जुड़े मुद्दे पर नजर रखना है। इसे संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग की जगह 2006 में बनाया गया था। भारत अभी इसका सदस्य नहीं है।

Share.